बनारस में सीएए का विरोध कर रहे मुसलमानों ने पुलिस पर किया पथराव
   दिनांक 24-जनवरी-2020
 
banaras _1  H x
नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में पहले मुसलमानों ने हिंसक प्रदर्शन किए. उसके बाद प्रशासन ने सार्वजनिक संपत्ति के नुकसान की भरपाई के लिए जब दंगाइयों की संपत्ति जब्त करना शुरू किया तब महिलाओं और बच्चों को आगे कर दिया गया. वाराणसी के बेनियाबाग में धरना देने जा रहीं मुस्लिम महिलाओं को हटाने के लिए जब पुलिस वहां पहुंची तब पीछे से मुसलमानों की भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया. इस घटना के बाद वाराणसी पुलिस ने 6 लोगों को मौके से गिरफ्तार किया है. 32 लोगों को नामजद एवं 500 अज्ञात लोगों के खिलाफ बलवा एवं हमला करने की एफआईआर दर्ज की है.
गुरूवार को मुस्लिम महिलाएं धरना देने वाराणसी के बेनिया बाग़ इलाके में पहुंची थीं. धरना देने के लिए वहां टेंट मंगवाया गया. इस बीच जैसे ही सूचना मिली पुलिस ने मौके पर पहुंच कर धरना स्थल से महिलाओं को हटाने का प्रयास किया. पुलिस ने उन्हें बताया कि बिना पूर्व अनुमति के किसी भी प्रकार का धरना नहीं दिया जा सकता है. इसी बीच दूसरी ओर से मुसलमानों की भीड़ ने पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया. वाराणसी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने प्रारम्भिक स्तर की जांच के बाद बताया कि धरना स्थल पर भीड़ जुटाने के लिए लोगों को पैसे दिए गए थे. कुछ लोगों के खाते में भी रूपये जमा कराए गए थे. इन सभी लोगों के बारे में पता लगाया जा रहा है. जो लोग वांछित है , उनका पोस्टर भी शहर में लगवाया जाएगा.