अंत्योदय के सिद्धांत पर आधारित हैं 'हमारे काम
   दिनांक 28-जनवरी-2020
a_1  H x W: 0 x
अनुराग सिंह ठाकुर को सम्मानित करते पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी (दाएं)
 
गत 20 जनवरी को नई दिल्ली में पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी ने अपने आवास-10 राजाजी मार्ग, नई दिल्ली व विज्ञान भवन में आयोजित एक समारोह में केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट अफेयर्स राज्यमंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर को समाज सेवा के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने के चलते 'चैपिंयन्स फॉर चेंज-2019' पुरस्कार से सम्मानित किया। देश के पूर्व मुख्य न्यायाधीश व पूर्व राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग अध्यक्ष के.जी. बालकृष्णन व सर्वोच्च न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश ज्ञान सुधा मिश्र ने इस पुरस्कार के नामांकन और चयन मंडल की अध्यक्षता की।
इस मौके पर श्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि यह सम्मान मेरा नहीं बल्कि पूरे हमीरपुर संसदीय क्षेत्र और हिमाचल प्रदेश का है क्योंकि जनसेवा की पहल में सभी की जनभागीदारी महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने कहा कि मेरे संसदीय क्षेत्र में किए गए सभी सामाजिक प्रयास अंत्योदय के सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए शुरू किए गए हैं। प्रत्येक पहल का उद्देश्य स्वास्थ्य, शिक्षा, खेल या महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को लाभान्वित करना है। मेरा दृढ़ विश्वास है कि अच्छी शिक्षा और उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधा पर सभी का एक समान अधिकार है।
इसी तरह खेल, सामाजिक सहभागिता,अनुशासन व व्यक्तित्व निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और मुझे इस बात की प्रसन्नता है कि मेरे द्वारा शुरू किए गए सभी कार्यक्रम अपने उद्देश्य को पूरा करने में सफल हुए हैं और आगे भी बिना किसी रुकावट के जनकल्याण में क्रियान्वित होते रहेंगे। हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में चलने वाली सांसद मोबाइल स्वास्थ्य सेवा 'अस्पताल' के मॉडल को आज देश के विभिन्न राज्यों में अपनाया जा रहा है। लोगों को उनके घर-द्वार पर नि:शुल्क उच्च स्तरीय चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की इस मुहिम ने अपनी सेवा के 18 महीनों में अब तक 1,89,554 लोगों को लाभान्वित किया है।