जम्मू—कश्मीर: शोपियां में मदरसे के तीन मौलवियों पर पुलिस ने पीएसए के तहत दर्ज किया केस, जांच जारी

    दिनांक 13-अक्तूबर-2020   
Total Views |
जम्मू-कश्मीर पुलिस ने दक्षिण शोपियां जिले में एक मदरसे के तीन मौलवियों पर पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत मामला दर्ज किया है। गौरतलब है कि जांच में इसी मदरसे के 13 छात्र अलग-अलग आतंकी संगठनों में शामिल पाए गए हैं।

2e_1  H x W: 0

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने दक्षिण शोपियां जिले में एक मदरसे के तीन मौलवियों पर पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत मामला दर्ज किया है। गौरतलब है कि जांच में इसी मदरसे के 13 छात्र अलग-अलग आतंकी संगठनों में शामिल पाए गए हैं। इसमें सज्जाद भट भी शामिल है, जो फरवरी, 2019 में पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर आत्मघाती हमला करने का आरोपी है। इसके बाद से यह स्कूल सुरक्षा एजेंसियों की रडार पर है। कश्मीर संभाग के आईजी विजय कुमार ने मीडिया को जानकारी देते हुये बताया कि स्कूल जमात-ए-इस्लामी से संबंधित है।  स्कूल का नाम सिराज उलूम इमाम साहिब है।

उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि इस स्कूल पर नजर नहीं थी। सुरक्षा एजेंसी लंबे समय से स्कूल की गतिविधियों पर नजर रख रही थी। इस सबको देखते हुए हमने स्कूल के तीन शिक्षकों अब्दुल अहद भट, रउफ भट और मोहम्मद युनूस वानी पर पीएसए के तहत मामला दर्ज किया है। स्कूल के करीब 6 मौलवियों पर सीआरपीसी की धारा 107 के तहत कार्रवाई की गई है। साथ ही जांच के बाद जरूरत पड़ने पर हम स्कूल प्रशासन के खिलाफ भी कार्रवाई करेंगे।

बता दें कि शोपियां जिले में यह मदरसा जांच एजेंसियों की नजर में तब आया, जब इसके 13 छात्र आतंकवादी संगठनों में शामिल पाए गए थे। अधिकारियों ने बताया कि स्कूल में अधिकतर छात्र शोपियां, पुलवामा और अनंतनाग जिलों के हैं, जिन्हें सुरक्षा एजेंसियां आतंकवाद का गढ़ मानती हैं। आतंकी सज्जाद भट के अलावा इस साल अगस्त में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया अलबदर का कमांडर जुबैर नेगरू और शोपियां में बीते 4 अगस्त को मारे गये हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी नाजिम नाज डार और ऐजाज अहमद पॉल भी इसी स्कूल के छात्र थे।