केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी ने फारुक अब्दुल्ला के चीन संबंधी बयान पर लिया आड़े हाथों, लद्दाखवासियों से पूछा क्या ऐसे लोगों को वोट मांगने का है अधिकार ?

    दिनांक 19-अक्तूबर-2020   
Total Views |
केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने लद्दाख दौरे के दौरान एक सभा को संबोधित करते हुए नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी और कांग्रेस पार्टी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने फारूक अब्दुल्ला के चीन संबंधी बयान पर न केवल उन्हें लताड़ा बल्कि लद्दाख के लोगों के सामने ऐसे दलों और नेताओं की हकीकत सामने रखी
hh_1  H x W: 0

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने लद्दाख दौरे के दौरान एक सभा को संबोधित करते हुए नेशनल कांफ्रेंस, पीडीपी और कांग्रेस पार्टी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि विरोधी दल चीन के समर्थन से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में अनुच्छेद 370 को बहाल करने और लद्दाख से केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा खत्म करने की मंशा रखते हैं।

इसलिए आप लोग ही इस बात का फैसला कीजिए कि आप एक केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा चाहते हैं या फिर अनुच्छेद-370 ? उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस ने 70 साल में लद्दाख को क्या दिया?  भ्रष्टाचार और वंशवाद की राजनीति। साथ ही कांग्रेस ने लद्दाख के साथ सौतेला व्यवहार किया।

अब फारुक अब्दुल्ला जैसे लोग अपने बयान में जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को बहाल करने में चीन की मदद लेने का उल्लेख कर रहे हैं। लेह के लोगों को भी उनके विचारों के बारे में जानना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्या ऐसे लोगों को वोट मांगने का अधिकार है ?

सनद रहे कि पिछले दिनों फारुक अब्दुल्ला ने एक साक्षात्कार में कहा था कि वह चीन की मदद से जम्मू-कश्मीर में दोबारा अनुच्छेद—370 लागू करेंगे। जिसके बाद से ही देश भर में उनके खिलाफ विरोध जारी है। फारूक अब्दुल्ला ने यह भी कहा था कि 5 अगस्त, 2019 को केंद्र की सरकार ने जो किया, वह किसी सूरत में स्वीकार नहीं किया जा सकता। हम इसे नहीं स्वीकार करते हैं और चीन भी इसे नहीं स्वीकार कर रहा है। उनके इस विवादित और चीनी प्रेम को दर्शाते बयान के बाद सोशल मीडिया पर यूजर्स ने उन्हें जमकर खरी—खोटी सुनाई।