तिरंगे पर महबूबा के बयान से नाराज पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा

    दिनांक 27-अक्तूबर-2020   
Total Views |
तिरंगे पर दिए गए बयान के बाद पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की मुखिया महबूबा मुफ्ती की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। उनके बयान से आक्रोशित होकर पीडीपी नेता टीएस बाजवा, वेद महाजन और हुसैन ए वफा ने सोमवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया।
mhboba_1  H x W

तिरंगे पर दिए गए बयान के बाद पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की मुखिया महबूबा मुफ्ती की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। उनके बयान से आक्रोशित होकर पीडीपी नेता टीएस बाजवा, वेद महाजन और हुसैन ए वफा ने सोमवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया। पार्टी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती को लिखे एक पत्र में इन नेताओं ने कहा है कि उनके कुछ कार्यों और विशेषकर उनके कुछ बयान देशभक्ति की भावनाओं को आहत करने वाले हैं और उन्हें असहज महसूस करा रहे हैं।

गौरतलब है कि पिछले दिनों पीडीपी की अध्यक्ष मुफ्ती ने रिहा होने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करते हुए देशद्रोही बयान दिया था। उन्होंने मेज पर रखे जम्मू-कश्मीर के पूर्व के झंडे की तरफ इशारा करते हुए कहा था कि जब तक मेरा झंडा मेरे पास वापस नहीं आ जाता है, तब तक कोई भी दूसरा झंडा नहीं उठाऊंगी। उन्होंने कहा कि जब हमारा झंडा हमारे हाथ में आएगा, हम उस वक्त तिरंगा को भी उठाएंगे।

बयान के बाद घिरीं महबूबा
महबूबा मुफ्ती के देश विरोधी बयान के बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस ने नेता न केवल इस बयान से किनारा कर रहे हैं बल्कि निंदा करते दिखाई दे रहे। जम्मू क्षेत्र में एनसी के वरिष्ठ नेता देवेंद्र सिंह राणा ने कहा कि पार्टी नेताओं के लिए राष्ट्र की एकता और संप्रभुता सर्वोपरि है। हम राष्ट्र की संप्रभुता और एकता से समझौता नहीं करेंगे। फारूक और उमर अब्दुल्ला के साथ बैठक में महबूबा मुफ्ती के बयान पर चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा कि फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला ने उन्हें आश्वस्त किया है कि गुपकार का कोई नेता ऐसा कोई बयान नहीं देगा जिससे राष्ट्र का हित प्रभावित हो।

बता दें कि महबूबा मुफ्ती के तिरंगे झंडे पर दिए गए देशविरोधी बयान के बाद पीडीपी के खिलाफ जम्मू—कश्मीर में कई संगठनों ने प्रदर्शन किए। इस दौरान जम्मू में भाजपा कार्यकर्ताओं ने पीडीपी दफ्तर पर तिरंगा फहराया और महबूबा मुफ्ती के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।