महबूबा मुफ्ती के बिगड़े बोल, “युवाओं के पास हथियार उठाने के अलावा कोई विकल्प नहीं”

    दिनांक 10-नवंबर-2020
Total Views |
पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को फिर एक बार भड़काऊ बयान देते हुए घाटी में बंदूक उठाने वालों का समर्थन किया। जम्मू में सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने घाटी के आवाम को भड़काते और झूठे तथ्य रखते हुए कहा कि आज घाटी में युवाओं के पास नौकरी नहीं है, इसलिए उनके सामने हथियार उठाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है

mahabooba _1  H
पीडीपी मुखिया महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को फिर एक बार भड़काऊ बयान देते हुए घाटी में बंदूक उठाने वालों का समर्थन किया। जम्मू में सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में महबूबा ने घाटी के आवाम को भड़काते और झूठे तथ्य रखते हुए कहा कि आज घाटी में युवाओं के पास नौकरी नहीं है, इसलिए उनके सामने हथियार उठाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। इसलिए आतंकी कैंप में भी भर्तियां बढ़ने लगी हैं। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने के बाद भाजपा की मंशा जम्मू-कश्मीर की जमीन और नौकरी छीनने की है। इस दौरान जम्मू के नागरिकों को बरगालते हुए कहा कि 370 डोगरा संस्कृति को बचाने के लिए था। उन्होंने आगे कहा कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू के लोग भी परेशान है। स्थानीय लोग बजरी, रेत निकाल कर अपनी आजीविका चला रहे थे। अब बजरी व रेत निकालने का काम भी बाहरी लोगों को दे दिया गया है। हमने जम्मू में समाज के विभिन्न वर्गों से बातचीत की। कारोबार पूरी तरह से ठप है। रोजगार मिल नहीं रहा है, इंडस्ट्री नहीं चल रही हैं। हालांकि महबूबा के इस विवादित बयान पर भाजपा ने कड़ी प्रतिक्रिया दी। भाजपा नेता अमित मालवीय ने कहा कि महबूबा मुफ्ती और उनका परिवार लंबे वक्त तक कश्मीर की सत्ता में रहा। अगर युवाओं को नौकरी नहीं मिली है तो वो अपना ही रिपोर्ट कार्ड दे रही हैं। उन्होंने कहा कि महबूबा मुफ्ती अपने राजनीतिक जनाधार को बचाए रखने के लिए इस तरह के बयान दे रही हैं।