हुए लाचार तो किया नवाचार

    दिनांक 19-नवंबर-2020   
Total Views |
सौन्दर्य प्रसाधन निर्माता ‘इमामी लिमिटेड’ के सह-संस्थापक राधेश्याम गोयनका एक कुशल प्रबंधक माने जाते हैं। उन्होंने अपने साझीदारों के साथ ऐसी नीति अपनाई कि  कंपनी ‘लॉकडाउन’ की चुनौतियों को आसानी से पार कर गई

0_1  H x W: 0 x
राधेश्याम गोयनका (74 वर्ष)
कंपनी: इमामी लिमिटेड 
वार्षिक कारोबार: 3,000 करोड़ रु.
चुनौती: उपभोक्ताओं तक उत्पाद पहुंचाना।
रणनीति: समय और उपभोक्ताओं की मांग
देखते को हुए नए उत्पाद बनाने और नवाचार
का निर्णय लिया। फिर उत्पादों की ‘आॅनलाइन’ बिक्री शुरू की गई।


भारत में सौन्दर्य प्रसाधन सामग्री बनाने वाली एक प्रसिद्ध कंपनी है ‘इमामी लिमिटेड’। यह 1973 से अनवरत चल रही है। ‘लॉकडाउन’ के दौरान पहली बार यह कंपनी कुछ दिनों के लिए बंद रही, पर संचालकों ने अपनी सूझ-बूझ से जल्दी ही इसे चालू कर लिया। कंपनी के सह-संस्थापक राधेश्याम गोयनका कहते हैं, ‘‘कोरोना काल ने हमें एक योद्धा, बचे रहने वाला और अंत में एक विजेता होने का पाठ भी पढ़ाया। इस संकट में सबसे बड़ी चुनौती थी उपभेक्ताओं तक सामान पहुंचाना और पहली प्राथमिकता अपने कर्मचारियों और व्यावसायिक साझेदारों की सेहत।  इसलिए घर से काम करने की नीति को सख्ती से लागू किया और सभी आवश्यक स्वास्थ्य सुरक्षा निर्देशों का पालन किया। फिर तेजी से अनेक निर्णय लिए।’’

गोयनका बताते हैं, ‘‘हमने सही समय पर उपभोक्ताओं की नब्ज पकड़ते हुए बोरोप्लस ब्रांड और विभिन्न प्रतिरक्षा-निर्माण उत्पाद जैसे- आयुष क्वाथ पाउडर के साथ आमलकी, अश्वगंधा, गिलोय, नीम, तुलसी, हल्दी आदि के उत्पाद बनाने शुरू किए। इसके साथ ही हमारे होम्योपैथिक विभाग (एम. भट्टाचार्य एंड कंपनी (प्रा.) लिमिटेड) ने भी ‘एमबी कवच’, ‘समग्र एंटीवायरल इम्युनिटी बूस्टर’ जैसे उत्पाद का शुभारंभ किया। ये सभी उत्पाद रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले हैं। इसलिए बाजार में इनकी मांग भी बहुत अच्छी रही।’’

इस दौरान ‘आनलाइन’ खरीदारी खूब बढ़ी। इसको ध्यान में रखते हुए इमामी ने भी अपने सभी उत्पादों की बिक्री ‘आॅनलाइन’ शुरू की। श्री गोयनका कहते हैं, ‘‘युद्ध काल में युद्ध की रणनीति ही मायने रखती है। इस युद्ध को जीतने के लिए हमने निवेश, सामयिक नवाचार, लक्षित वितरण और तकनीकी वृद्धि पर ध्यान केंद्रित किया और युद्ध जीत लिया।’’
यही कारण है कि इस कंपनी में काम करने वाले लगभग 6,000 कामगारों पर कोई संकट नहीं आया। इमामी का मुख्यालय कोलकाता में है, लेकिन इसकी फैक्टरियां देश के अनेक राज्यों में हैं। इमामी लिमिटेड, ‘इमामी ग्रुप आॅफ कंपनीज’ की एक इकाई है।