गिलगित-बाल्टिस्तान चुनाव में इमरान की पार्टी और सेना पर लगे धांधली के आरोप, गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने गाड़ियों को फूंका

    दिनांक 25-नवंबर-2020   
Total Views |

 
gilgit_1  H x W
भारत सरकार द्वारा लगातार विरोध जताने के बाद भी पाकिस्तान सरकार ने गिलगित-बाल्टिस्तान में गैर-कानूनी तरीके से चुनाव कराये थे। इसके बाद पाकिस्तान के प्रमुख विपक्षी दलों समेत आम नागरिकों ने इमरान खान की पीटीआई और सेना पर बड़े पैमाने पर चुनाव में धांधली के आरोप लगाए और उग्र प्रदर्शनकारियों ने आगजनी करते हुए दर्जनों गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया

पाक अधिक्रांत जम्मू—कश्मीर के गिलगित-बाल्टिस्तान में पाकिस्तान सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है। भारत सरकार द्वारा लगातार विरोध जताने के बाद भी पाकिस्तान सरकार ने गिलगित-बाल्टिस्तान में गैर-कानूनी तरीके से चुनाव कराये थे, लेकिन चुनाव बाद से ही पाकिस्तान की प्रमुख विपक्षी दल समेत आम नागरिक इमरान खान की पीटीआई और सेना पर बड़े पैमाने पर चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाए हुए हैं। लेकिन अब जब इमरान खान ने प्रदर्शनकारियों की बात नहीं सुनी तो गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव में हुई धांधली के खिलाफ उग्र प्रदर्शनकारियों ने आगजनी की और दर्जनों गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। हालांकि प्रशासन ने आगजनी और हिंसा की इस घटना के लिए विपक्षी दलों को दोषी ठहराया है, लेकिन विपक्षी नेताओं ने कहा कि चुनाव में कथित धांधली के खिलाफ आम लोगों ने गिलगित-बाल्टिस्तान में विरोध प्रदर्शन किया है।

बता दें कि गिलगित-बाल्टिस्तान के हालिया चुनावों के नतीजों को देश के दो मुख्य विपक्षी दल— पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी और मुस्लिम लीग-नवाज ने स्वीकार नहीं किया है। साथ ही इमरान सरकार पर चुनाव आयोग के साथ मिलकर धांधली करने का आरोप लगाया है। पाकिस्तान की सत्तारूढ़ पीटीआई ने इन चुनावों में सबसे अधिक सीटें जीती हैं, जबकि ज़्यादातर सीटों पर चुनाव जीतने वाले स्वतंत्र उम्मीदवारों ने भी सत्तारूढ़ दल में शामिल होने की घोषणा की है। गिलगित-बाल्टिस्तान की कार्यवाहक सरकार के प्रवक्ता फैज़ुल्लाह फ़ारूक ने आरोप लगाया है कि जब मुख्य चुनाव आयुक्त राजा शाहबाज़ खान गिलगित में शिकायतें सुन रहे थे तो पीपीपी के हारने वाले उम्मीदवारों और कार्यकर्ताओं ने वहां पर हिंसा और तोड़-फोड़ की थी, जिसके बाद हंगामा शुरू हुआ था। खबरों की मानें मानें तो गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने चिनार बाग के पास सड़क को अवरुद्ध कर दिया और पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें हुई थीं। इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और हवा में गोलियां चलाईं। जानकारी के मुताबिक प्रदर्शनकारी दोबारा चुनाव करवाने की भी मांग कर रहे थे। उनका कहना है कि पाकिस्तानी सेना और इमरान सरकार ने मिलकर गिलगित-बाल्टिस्तान चुनाव में धांधली की है।