सीएए और एनआरसी के विरोध में शामिल हुआ था मंदिर में नमाज पढ़ने वाला फैजल

    दिनांक 04-नवंबर-2020
Total Views |
उत्तर प्रदेश के मथुरा के नंदगांव स्थित नंद भवन मंदिर में नमाज पढ़ने वाले फैजल खान के बारे एक नया खुलासा हुआ है. वह नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में शामिल हुआ था

faizal _1  H x
फैजल 3 नवंबर को दिल्ली के जामिया नगर से गिरफ्तार किया गया था. उसके बाद उसकी कोरोना की जांच कराई गई थी. कोरोना पाजिटिव पाए जाने पर उसे अस्पताल में दाखिल कराया गया.
बता दें कि मंदिर के सेवायत कान्हा गोस्वामी की तहरीर पर थाना बरसाना में फैजल , चाँद और दो अन्य लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 153-ए , 295, 505 के अंतर्गत एफआईआर दर्ज की गई थी.गत 29 अक्टूबर को नई दिल्ली से मथुरा पहुंचकर फैजल एवं चांद ने मंदिर परिसर में नमाज पढ़ा. नमाज पढ़ने की फोटो वायरल होने के बाद मंदिर के सेवायत कान्हा गोस्वामी की तरफ से थाना बरसाना में मुस्लिम युवकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई थी. यह मंदिर मथुरा के बरसाना थाना अंतर्गत नंद गांव में स्थित है. मंदिर के सेवायत कान्हा गोस्वामी ने पुलिस को बताया था कि 29 अक्टूबर को 4 युवक नन्द महल मंदिर आये थे. इसमें से एक युवक ने मुस्लिम टोपी लगा रखी थी. मुस्लिम युवक को मंदिर में देख आश्चर्य हुआ. तब मैंने उस युवक से उसका नाम पूछा. उसने अपना नाम फैजल बताया और कहा कि भगवान कृष्ण क्या सिर्फ हिन्दुओं के हैं. कृष्ण हम सबके हैं. मुस्लिम युवक फैजल ने राम चरित मानस की चौपाई भी सुनाई. फैजल और उसके अन्य तीन साथियों ने यह भी बताया कि वो साइकिल से ब्रज चौरासी कोस यात्रा करने आये थे. दो युवकों ने मंदिर के एक कोने में नमाज पढ़ा. हालांकि उन लोगों को नमाज पढ़ने के लिए मना किया गया था.