केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने गुपकार गठबंधन पर साधा निशाना—कहा, “जम्मू-कश्मीर की जनता अब गुपकार गैंग के बहकावे में नहीं आने वाली”

    दिनांक 15-दिसंबर-2020   
Total Views |
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने रियासी में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि तिरंगे का अपमान करने वाले जनता का सम्मान कभी नहीं कर सकते हैं। आज जब भ्रष्टाचार की नींव हिलने लगी तो गुपकार गैंग सक्रिय हो गया है। पर जनता उनकी असलियत जान चुकी है। इसलिए राज्य की जनता अब विकास का नया सवेरा देखने के लिए उत्साहित है
smritirani_1  H


जम्मू—कश्मीर में चल रहे डीडीसी चुनाव में जनता की ओर से मिल रहे समर्थन से गुपकार गैंग बौखलाया हुआ है। ऐसे में वह आए दिन कोई न कोई शिगूफा छोड़कर राज्य के लोगों को बहकाता। पर राज्य के लोग इन दलों के नेताओं की हकीकत को समझ चुके हैं। इसलिए वह राज्य में विकास के नाम पर वोट करते हुए खुलकर लोकतंत्र के समक्ष अपनी आस्था जता रहे हैं।

इसी कड़ी में बीते दिनों केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी रियासी में एक जनसभा को संबोधित कर रही थीं। इस दौरान उन्होंने कहा कि तिरंगे का अपमान करने वाले जनता का सम्मान कभी नहीं कर सकते हैं। आज जब भ्रष्टाचार की नींव हिलने लगी तो गुपकार गैंग सक्रिय हो गया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में विकास के नए आयाम स्थापित किए हैं। एम्स के निर्माण के साथ ही आईआईटी, पुल, सड़कों का जाल तेजी से बिछ रहा है। उन्होंने कहा कि विकास का नया सवेरा देखने के लिए प्रदेश की जनता उत्साहित है। उन्होंने विपक्षी दलों पर हमला करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर पर कई वर्षो तक राज करने वाले परिवारों ने सिर्फ अपनी तिजोरिया भरी हैं। यहीं कारण है कि इन परिवारों ने पंचायती राज को मजबूत करने के लिए कभी भी दिलचस्पी नहीं दिखाई। अब जब इनकी भ्रष्टाचार की गाड़ी बंद हो गई है तो गुपकार गैंग इकट्ठा हो गया है। लेकिन जम्मू-कश्मीर की जनता अब गुपकार गैंग के बहकावे में नहीं आने वाली है।
 
उन्होंने कांग्रेस पार्टी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यह देश का सौभाग्य है कि कोरोना काल में केंद्र में कांग्रेस की सरकार नहीं है, वरना गरीबों का तो बुरा हाल हो जाता। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के खात्मे से कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरा भारत एक ध्वज के नीचे है। पर अफसोस की बात है कि यहां के नेता अपने स्वार्थ के लिए आतंक की दहलीज पर नौजवानों की कुर्बानियां दिलाते रहे हैं। उन्होंने पूर्व सरकारों व नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि वे लोग तब कहां थे, जब शौचालय न होने से बहन-बेटियों को तड़के और शाम के अंधेरे का इंतजार करना पड़ता था। किसी गरीब के बीमार हो जाने पर बेहतर इलाज के लिए आभूषण तक गिरवी रखने पड़ जाते थे। मोदी सरकार ने बड़े से बड़े अस्पताल में गरीबों के भी इलाज के लिए आयुष्मान योजना की शुरुआत की है। करोड़ों शौचालय बनवायें हैं। अपने संबोधन के दौरान स्मृति ईरानी ने कहा कि कुछ लोगों ने देश के संविधान और संसद को चुनौती दी थी। उन्होंने कहा था कि आर्टिकल 370 में बदलाव किया गया तो खूनखराबा होगा। लेकिन उन्हें लोगों की ताकत का अंदाजा नहीं था, कई सालों से लोग अखंड भारत की राह देख रहे थे।