शेहला के आरोपों पर पिता का पलटवार, कहा–अगर मैं हिंसक व्यक्ति हूं, तो मेरे खिलाफ कई प्राथमिकी दर्ज होनी चाहिए थीं

    दिनांक 02-दिसंबर-2020   
Total Views |
शेहला के पिता ने डीजीपी दिलबाग सिंह के नाम पर एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने अपने घर में राष्ट्र विरोधी गतिवधियां चलने की बात कही थीं। साथ ही उन्होंने यह भी दावा किया था कि उन्हें उनकी बेटी द्वारा ही मौत की धमकी दी जा रही है। उन्होंने दावा किया है कि शेहला ने कश्मीर केंद्रित राजनीति में शामिल होने के लिए ‘कुख्यात लोगों’ से 3 करोड़ रुपये नकद लिए हैं।
j_1  H x W: 0 x

जेएनयू की पूर्व छात्रा शेहला रशीद के खिलाफ उनके ही पिता अब्दुल रशीद शोरा ने कई बड़े आरोप लगाते हुये शिकायत दर्ज कराई है, जिसके बाद से लगातार पिता-बेटी के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। एक तरफ जहां शेहला रशीद ने इस पूरे मामले को घरेलू हिंसा बताते हुए अपने पिता पर अपनी माता को मारने और घरेलू हिंसा का आरोप लगाया है, वहीं शेहला के पिता अब्दुल रशीद शोरा ने अपनी सफाई में कहा कि मुझे घरेलू हिंसा की शिकायत के बाद अदालत के आदेश से घर में रहने के अधिकार को बहाल कर दिया गया। अगर मैं एक हिंसक व्यक्ति हूं, तो निश्चित रूप से मेरे खिलाफ कई एफआईआर दर्ज होनी चाहिए थीं?  लेकिन ऐसा नहीं है।
 

गौरतलब है कि बीते सोमवार को जम्मू में शेहला के पिता ने डीजीपी दिलबाग सिंह के नाम पर एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने अपने घर में राष्ट्र विरोधी गतिवधियां चलने की बात कही थीं। साथ ही उन्होंने यह भी दावा किया था कि उन्हें उनकी बेटी द्वारा ही मौत की धमकी दी जा रही है। उन्होंने दावा किया है कि शेहला ने कश्मीर केंद्रित राजनीति में शामिल होने के लिए ‘कुख्यात लोगों’ से 3 करोड़ रुपये नकद लिए हैं। उन्होंने मांग की है कि फिरोज पीरजादा, जहूर वटाली और इंजीनियर रशीद के बीच हुए रहस्यमय वित्तीय लेनदेन और शेहला के बैंक खातों की भी जांच होनी चाहिए। वहीं इस पूरे मामले पर शेहला ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह कोई राजनीतिक मामला नहीं है, क्योंकि यह तब से चल रहा है जब से मैं होश में आई हूं।

jam_1  H x W: 0