'मेक माई ट्रिप' की तर्ज पर हॉलीडे पैकेज देगी यूपी सरकार

    दिनांक 21-दिसंबर-2020   
Total Views |
हॉलीडे पैकेज के लिए अब आपको ‘मेक माई ट्रिप, यात्रा डाट काम एवं गो इबीबो सरीखी वेबसाइट पर ही आश्रित रहने की आवश्कता नहीं है. यूपी के वन निगम और पर्यटन विभाग भी यह सुविधा मुहैया कराने जा रहे हैं. पर्यटकों के लिए वन क्षेत्रों के अलावा यूपी के मशहूर स्थलों को शामिल किया जाएगा.

j_1  H x W: 0 x

हॉलीडे पैकेज के लिए अब आपको ‘मेक माई ट्रिप, यात्रा डाट काम एवं गो इबीबो सरीखी वेबसाइट पर ही आश्रित रहने की आवश्कता नहीं है. यूपी के वन निगम और पर्यटन विभाग भी यह सुविधा मुहैया कराने जा रहे हैं. पर्यटकों के लिए वन क्षेत्रों के अलावा यूपी के मशहूर स्थलों को शामिल किया जाएगा. पर्यटन क्षेत्रों का महत्‍व समझाने और उसका इतिहास बताने के लिए गाइड की सुविधा भी उपलब्ध कराई जायेगी. वर्ष 2019 में देशी पर्यटकों की आमद के मामले में यूपी देश में प्रथम स्थान पर था. योगी सरकार पर्यटन की सुविधाजनक नीतियों के जरिये उत्‍तर प्रदेश को आने वाले समय में देश और दुनिया में पर्यटन के बड़े केंद्र के तौर पर विकसित करने की तैयारी में जुटी है. पर्यटकों के लिए पैकेज की व्यवस्था लखनऊ, दिल्ली और नोएडा से होगी. जहां के लिए भी पर्यटक अपनी बुकिंग कराएंगे. वहां से गाड़ी उन्हें लेकर डेस्टिनेशन पर  जाएगी. पर्यटकों की पसंद के मुताबिक ‘होम स्टे’ या फिर होटल में ठहरने की व्यवस्था होगी. पर्यटकों को उनकी आवश्‍यकता के आधार गाइड की सुविधा भी टूर के दौरान दी जाएगी.
 

j_1  H x W: 0 x
राज्य सरकार की कोशिश ‘होम स्टे’ योजना को भी बढ़ावा देने की है. इस योजना में अलग-अलग इलाकों के लोगों से आवेदन मांगे जाएंगे. जो लोग आवेदन कर रहे हैं, उनका रहन– सहन, व्यवहार, शिक्षा, सुरक्षा और स्वच्छता की जांच की जायेगी. इसके बाद इस योजना में उन्हें पंजीकृत किया जाएगा. पंजीकृत लोग अपने घर पर देश और विदेश के पर्यटक को ठहरा सकेंगे. वन विभाग खासतौर पर ‘होम स्टे’ योजना को बढ़ावा देना चाहता है. ‘होम स्‍टे’ के जरिये ग्रामीण और वन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को रोजगार से जोड़ कर मुख्‍य धारा में लाया जाएगा. खासतौर पर ऐसे इलाके जिनका अपना ऐतिहासिक महत्व है. तराई के जिलों के साथ-साथ बुंदेलखंड और विन्ध्य क्षेत्र में भी इस योजना को शुरू किया जा रहा है. पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ इस योजना के जरिए ‘होम स्टे’ को बढ़ावा मिलेगा, जिससे स्थानीय स्तर पर लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे. इसके अलावा गाइड के रूप में भी स्थानीय लोगों को रखा जाएगा. टूरिस्ट स्पॉट के आसपास वहां की स्थानीय चीजों की बिक्री भी होगी और स्थानीय शिल्पकारों को रोजगार मिलेगा.