लखनऊ नगर निगम का बांड बाम्बे स्टाक एक्सचेंज में लिस्ट होते ही 'ओवर सबस्क्राइब'

    दिनांक 03-दिसंबर-2020   
Total Views |
लखनऊ नगर निगम के म्युनिसिपल बॉन्ड की बुधवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में लिस्टिंग की गई। ऐसा पहली बार है जब उत्तर भारत के किसी नगर निगम के बॉन्ड की लिस्टिंग की गई। बुधवार को बीएसई के हेरिटेज हॉल में आयोजित 'रिंगिंग बेल सेरेमनी' में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने परंपरा के अनुसार ‘बेल’ बजाकर लखनऊ नगर निगम का म्युनिसिपल बॉन्ड जारी किया। इस बांड की सफलता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि लिस्ट होते ही ओवर सबस्क्राइब हो गया
stok_1  H x W:

लखनऊ नगर निगम के म्युनिसिपल बॉन्ड की बुधवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) में लिस्टिंग की गई। ऐसा पहली बार है जब उत्तर भारत के किसी नगर निगम के बॉन्ड की लिस्टिंग की गई। बुधवार को बीएसई के हेरिटेज हॉल में आयोजित 'रिंगिंग बेल सेरेमनी' में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने परंपरा के अनुसार ‘बेल’ बजाकर लखनऊ नगर निगम का म्युनिसिपल बॉन्ड जारी किया।

इस बांड की सफलता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि लिस्ट होते ही ओवर सबस्क्राइब हो गया।  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर कहा, “ कोरोना के इस कालखंड में, लखनऊ नगर निगम द्वारा 200 करोड़ रुपये के म्युनिसिपल बॉन्ड की लिस्टिंग के साथ 'आत्मनिर्भरता के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में आगे बढ़ेगा। निगम का यह प्रयास लखनऊ वासियों को बेहतर अवस्थापना सुविधाएं देने वाला होगा।

इस प्रयास से वित्तीय जरूरतें भी पूरी होंगी। आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश के अन्य नगर निगम इस दिशा में कार्य करने के लिए प्रेरित होंगे। लखनऊ के बाद अब अतिशीघ्र गाजियाबाद नगर निगम भी बीएसई में अपने म्युनिसिपल बांड की लिस्टिंग कराएगा। निवेशकों की रुचि के कारण ही यह बॉण्ड ओवर सब्सक्राइब हुआ। साढ़े चार गुना अधिक ओवर सब्सक्रिप्शन मिलना, शानदार उपलब्धि है। यह हमें और बेहतर करने को प्रेरित करेगा।”


एमएसएमई ईकाइयां भी हो रही हैं 'बीएसई' में लिस्ट

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम यूपी की एमएसएमई ईकाइयों को एनएसई और बीएसई में लिस्टिंग के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। अब तक 15 ईकाइयों ने बीएसई में लिस्टिंग कर अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए कदम उठाया है। निवेशकों की सरलता और सुगमता के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। सिंगल विंडो प्रणाली के माध्यम से हाल के समय में उत्तर प्रदेश में निवेशकों की जरूरतों और अपेक्षाओं का यथोचित समाधान हो रहा है। यूपी इन्वेस्टर समिट में उद्योग जगत की ओर से यूपी को आशातीत सहयोग मिला। यह प्रयास लगातार जारी रहेगा। अब यूपी में डिफेंस कॉरिडोर की स्थापना हो रही है, जो देश को रक्षा उत्पादन के क्षेत्र में ग्लोबल हब बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण होगा।