दिल्ली हिंसा: मस्जिदों से हो रहा ऐलान, घरों से हो रही पत्थरबाजी
   दिनांक 25-फ़रवरी-2020
उत्तरपूर्वी दिल्ली में हालात बेहद खराब हैं। मुस्लिम इलाकों में मस्जिदों से उन्माद का ऐलान हो रहा है। छतों से हिंदुओं पर पत्थरबाजी की जा रही है।अल्लाह हो अकबर के नारे लगाकर मुस्लिमों की भीड़ हिन्दू इलाकों सहित पुलिस पर भी पत्थर बरसा रही है

masjid _1  H x
मस्जिद यानी इबादतगाह। लेकिन हर बार ऐसा क्यों होता है जब देशद्रोही शरजील जैसा कट्टरपंथी मस्जिद से धरा जाता है, देश के दूसरे हिस्सों की मजिस्दों से ही अवैध हथियारों की खेफ वरामद होती है और अब उत्तर पूर्व दिल्ली में मस्जिद एवं इससे सटे मुस्लिम बहुल इलाकों से हिन्दू घरों पर पत्थर बरसाए जाते हैं। लेकिन यह सारी बातें सौ फीसदी सही हैं। यह अलग बात है कि सेकुलर मीडिया इस तथ्य को छिपा ले जाता है।
यह हकीकत है कि उत्तर पूर्व दिल्ली में दो दिन से जो दंगा-फसाद चल रहा है, वह सारे मुस्लिम बहुल क्षेत्रों से फैलाया गया है। इसमें इबादतगाह से लेकर मुल्ला-मौलवी खुलकर सामने आए हैं। यह उन्मादी भीड़ आगजनी कर रही है, हिन्दुओं को चुन-चुन कर निशाना बना रही है, घर- दुकान और उनके प्रतिष्ठानों को लूट कर आग के हवाले कर रही है।
ताजा घटनाक्रम की बात करें तो दोपहर का यही कोई एक बजा था जब हम उत्तर पूर्व दिल्ली स्थित गोकुलपुरी थाने के शिवविहार इलाके में थे। जानकारी के लिए बता दूं यह क्षेत्र गोकुलपुरी का सीमावर्ती इलाका है जिसके एक तरफ हिन्दू तो दूसरी तरफ मुस्लिम रहते हैं। इसके बीच एक पुलिया है जो दोनों तरफ को जोड़ती है, लेकिन आज जो मंजर यहां दिख रहा था उससे बिल्कुल ऐसा नहीं लग रहा था कि यह राजधानी दिल्ली है। कानून का डर नाम की चीज तो दिख ही नहीं रही थी। अराजकता का आलम यह था कि मस्जिद एवं उससे सटे मुस्लिम इलाकों की छतों से कट्टरपंथियों द्वारा हिन्दुओं को निशाना बनाते हुए जमकर पथराव किया जा रहा था।

masjid _1  H x  
अल्लाह हो अकबर के नारे लगाकर मुस्लिमों की भीड़ हिन्दू इलाकों सहित पुलिस पर भी पत्थर बरसा रही थी। इस पथराव में कई हिन्दुओं के घायल होने के भी समाचार हैं। इलाके के अधिवक्ता नितिन निचौड़िया बताते हैं कि कल रात को इस इलाके के कुछ अनुसूचित वर्ग के हिन्दुओं को रात में मुस्लिमों ने बेरहमी से पीट दिया। यह लोग अपना काम करके वापस घरों को लौट रहे थे। इनकी खता सिर्फ इतनी थी कि वे हिन्दू थे। जब यह खबर इलाके के हिन्दुओं को पता चली तो उन्होंने इसका विरोध किया। हिन्दू समाज के लोग शिवविहार में ब्रिज के पास जुटने शुरू हुए। इतने में मुस्लिम मोहल्ले की तरफ से अचानक अंधाधुंध पत्थरबाजी शुरू कर दी गर्ई। इस तरह की अराजकता को देख हिन्दुओं की तरफ से भी इसका उत्तर दिया गया। यह पत्थरबाजी तब तक अंधाधुंध तरीके से चलती रही जब तक काफी संख्या में पुलिस नहीं आई। पुलिस आने बाद उसने कानून-व्यवस्था को संभाला और भीड़ को तितर-बितर किया। लेकिन इलाके का माहौल पूरी तरह से अभी भी तनावपूर्ण बना हुआ है।
छतों पर इकट्ठा कर रहे पत्थर
हम शिवविहार में ही थे जब मुसलमान छतों पर पत्थर इकट्ठा कर थे। हिंदुओं को बचाने के लिए पुलिस पुलिया के एक तरफ मानव श्रृंखला बनाए हुए खड़ी थी। पुलिस बार-बार लाउड स्पीकर से दोनों पक्षों से शांति की अपील कर रही थी लेकिन कट्टरपंथियों पर इस अपील का कोई असर नहीं दिख रहा था। जिहादी भीड़ छतों से लगातार पत्थरबाजी करने में लगी थी। पुलिस ने आगे बढ़कर लोगों को रोकने की कोशिश की लेकिन उन्मादी भीड़ ने पत्थरबाजी करके पुलिस को पीछे धकेल दिया। लेकिन काफी मशक्कत के बाद जवानों ने मामले को नियंत्रित किया। लेकिन खबर लिखे जाने तक मुसलमान पत्थर इकट्ठा कर छतों पर मोर्चा लिए हुए थे।