लॉस एंजिल्स में सीएए के समर्थन में संगोष्ठी
   दिनांक 26-फ़रवरी-2020
भारत सरकार द्वारा लागू नागरिकता संशोधन अधिनियम की सत्यता और तथ्यों को जाना।
 
a_1  H x W: 0 x
 
कार्यक्रम के मंच पर उपस्थित वक्तागण 
 
नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) पर फैलाए जा रहे भ्रम को लेकर अमेरिका के कैलिफोर्निया प्रांत के लॉस एंजिल्स में बीते दिनों भारतीय विचार मंच ने एक संगोष्ठी का आयोजन किया। सेरिटोस पब्लिक लाइब्रेरी में आयोजित कार्यक्रम में 120 से ज्यादा बुद्धिजीवी एकत्रित हुए और भारत सरकार द्वारा लागू नागरिकता संशोधन अधिनियम की सत्यता और तथ्यों को जाना।
 
कार्यक्रम में उपस्थित कश्मीर हिन्दू फाउंडेशन के संस्थापक डॉ. अमृत नेहरू ने पाकिस्तान में हो रहे हिन्दुओं के नरसंहार के बारे में ऐतिहासिक तथ्य देते हुए नागरिकता संशोधन अधिनियम की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. जसवंत पटेल ने बंटवारे के दौरान हिन्दुओं और सिखों पर हुए अत्याचारों का उदाहरण देते हुए कहा कि भारत सरकार द्वारा लाया गया सीएए बांग्लादेश और पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों के लिए एक सौगात है। सामाजिक कार्यकर्ता सन्मय मुखोपाध्याय ने 1947 के बंटवारे और 1971 के दौरान पूर्वी पाकिस्तान (आधुनिक बांग्लादेश) में अपने परिवार के भयावह अनुभव के बारे में बताया।