कोरोना वायरस से बचने के लिए ताबीज बेचने वाला मौलाना गिरफ्तार
   दिनांक 15-मार्च-2020
ताबीज और दुआ से ठीक करने का दावा करने वाला यह मौलाना लोगों को 11 रूपये में कोरोना वायरस से बचने की ताबीज बेच रहा था

maulana _1  H x
मौलाना, भोले - भाले लोगों को ठगने का कोई भी मौक़ा चूक नहीं रहे हैं. कभी संतान प्राप्ति का झांसा देकर महिलाओं का शोषण तो कभी दुआ - ताबीज से लोगों की बीमारी ठीक करने का झूठा दावा कर रहे हैं. लखनऊ का एक मौलाना , कोरोना वायरस से बचने के लिए 11 रूपये में ताबीज बेच रहा था. पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।
मज़ार और दरगाहों पर झाड़ - फूंक करके बीमारी का इलाज करने वाले दुराचारी मौलानाओं के चर्चे तो पहले ही आम हो चुके हैं मगर कोरोना वायरस को भी लखनऊ के एक मौलाना ने ठगी का साधन बना लिया. मौलाना ने कोरोना वायरस को ताबीज और दुआ से ठीक करने का दावा किया. यह मौलाना लोगों को 11 रूपये में कोरोना वायरस से बचने की ताबीज बेच रहा था. इस समय बाजार में मास्क और सेनेटाइजर के दाम काफी बढ़ गए हैं. सो, कुछ भोले - भाले लोग इस मौलाना के जाल में फंस कर ताबीज खरीदने भी लगे थे. इसी बीच पुलिस को जब इस मौलाना के कारनामे की जानकारी हुई तो इसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया. पुलिस के मुताबिक़ लखनऊ जनपद के मड़ियावं आदि ग्रामीण इलाकों में इस तरह के कुछ मौलानाओं के सक्रिय होने की खबर है.
मौलाना 'अहमद' लखनऊ जनपद के थाना वजीरगंज क्षेत्र के जवाहर नगर मोहल्ले का निवासी है. मौलाना अहमद ने डालीगंज एवं आसपास के इलाके में कई जगह पर बकायदे बैनर – पोस्टर लगवाये थे. इन पोस्टर में यह दावा किया गया था कि जिन लोगों के पास मास्क खरीदने का पैसा नहीं है. वो लोग निराश न हो. मात्र 11 रुपए में ताबीज खरीद कर कोरोना वायरस से अपना बचाव कर सकते हैं. पुलिस ने सड़कों पर लगे हुए बैनर के आधार पर ही मौलाना अहमद का पता लगाया और उसे गिरफ्तार कर लिया. थाना वजीरगंज के इन्स्पेक्टर दीपक दुबे ने बताया कि कुछ प्रमुख जगहों पर कोरोना वायरस से बचने के लिए मौलाना ने पोस्टर लगवाए थे. मौलाना से बात करने की कोशिश की गई तो उसने अपना मोबाइल फोन बंद कर लिया था मगर उसका पता लगा कर उसे शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया. उसके खिलाफ धोखाधड़ी करने के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई है.
लखनऊ में मदरसे का संचालक करता था लड़कियों का शोषण
 
वर्ष 2018 के जनवरी माह में लखनऊ के मदरसा - जामिया खादीजतुल कुबरा लिलबनात - में पुलिस ने छापा मारा. तब इस राज से पर्दा उठा कि वहां का संचालक लड़कियों का यौन शोषण कर रहा था. लड़कियों ने पहले भी शिकायत करने का प्रयास किया था मगर उनकी शिकायत पुलिस तक नहीं पहुंच पाई थी. मदरसा संचालक की हरकतों से तंग आकर लड़कियां शाम होने के बाद रसोई घर में नहीं जाना चाहती थीं. रसोई घर में ही मदरसा संचालक लड़कियों से अभद्र व्यवहार करता था. एक पीड़ित लड़की इस कदर दहशत में थी कि जब संचालक जेल चला गया तब उसने पुलिस को बताया कि संचालक विगत तीन वर्षो से उसके साथ बलात्कार कर रहा था. बलात्कार की पीड़ित छात्रा ने पुलिस को बताया था कि संचालक ने उसको करीब तीन वर्ष पहले अपने आफिस में बुलाया था और जोर जबरदस्ती से उसके साथ बलात्कार किया और फिर धमकाया कि अगर किसी को इस बारे में बताया तो जान से मार देगा. सआदतगंज थाना अंतर्गत मदरसा -जामिया खादीजतुल कुबरा लिलबनात - में कुल 52 लड़कियां पाईं गईं थीं. 5 पीड़ित लड़कियों ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी कि संचालक तैय्यब जिया कारी , उनके साथ मार पीट एवं अभद्र व्यवहार करता था. इसके बाद संचालक को जेल भेज दिया गया था.
मुज्जफरनगर के मौलाना का वीडियो भी हुआ था वायरल
वर्ष 2016 के सितम्बर माह में मौलाना अनवार उल हक, एक महिला के साथ आपत्तिजनक हालत में पकड़ा गया था. महिला ने आरोप लगाया था कि मौलाना ने इलाज के लिए बुलाया था. उसके बाद बलात्कार की घटना को अंजाम दिया. आपत्तिजनक अवस्था में पकड़े जाने का वीडियो भी वायरल हुआ था. महिला मुजफ्फरनगर से आई थी. वह कई दिनों से बीमार थी. पीड़ित महिला को किसी ने बताया था कि मौलाना अनवार उल हक़ उसका स्वास्थ्य ठीक कर सकता है. जब पीड़ित महिला ने मौलाना से मुलाक़ात की तो मौलाना ने बताया कि उसको प्रेत आत्मा ने जकड़ रखा है. मौलाना, महिला को सहारनपुर जनपद के कलियर शरीफ लिवा गया. वहां उसने एक होटल में दो कमरे किराए पर लिए. एक कमरे में महिला के पति को ठहराया और दूसरे कमरे में महिला को लिवा गया. भूत उतारने के बहाने से मौलाना ने बलात्कार करने की कोशिश की. इसी दौरान वह रंगे हाथ पकड़ा गया.
केरल में 63 वर्षीय मौलाना 25 वर्षों से कर रहा था यौन शोषण
 केरल में 63 वर्षीय मौलाना युसूफ पकड़ा गया जो करीब 25 वर्षों से यौन शोषण कर रहा था. मौलाना, केरल के कोट्टायम के एक मदरसे में बच्चों को पढ़ाता था. शिकायत मिलने पर पुलिस ने जब मौलाना को 2 जून 2019 गिरफ्तार किया तो मदरसे के 19 बच्चों ने पुलिस को बताया कि मौलाना उनका यौन शोषण कर रहा था. गिरफ्तारी के बाद मौलाना ने पुलिस के सामने जो बयान दिया. उससे मदरसों की वीभत्स हकीकत खुल कर सामने आ गई. मौलाना ने पुलिस को बताया कि उसने बीते 40 वर्षों में कितने बच्चों का यौन शोषण किया. यह उसे स्वयं भी याद नहीं है. मौलाना का कहना था कि जब वह बचपन में मदरसे में पढ़ता था. उस समय उसके साथ भी इसी प्रकार का यौन शोषण किया गया था. उसको यह लगता था कि बच्चे कभी इसके बारे में किसी को बतायेंगे नहीं और वह इसी तरह शोषण करता रहेगा.