गोमांस की दावत का आयोजन करने के आरोपी को राज्यसभा में भेजने में मदद कर रही कांग्रेस
   दिनांक 19-मार्च-2020
 
ranjan _1  H x
केरल में गाय के बछड़े को काटने वाले शख्स से पहले कांग्रेस पार्टी ने किनारा करने की कोशिश की थी मगर राहुल गांधी के साथ जब उस व्यक्ति की फोटो वायरल हुई तब कांग्रेस पार्टी ने बयान जारी किया कि उसे पार्टी से निकाल दिया गया है. अब कांग्रेस और माकपा ने कोलकाता के पूर्व मेयर , विकास रंजन भट्टाचार्य को राज्यसभा का उम्मीवार बनाया है जिन्होंने कोलकाता में खुलेआम गोमांस की दावत का आयोजन किया था.
राज्यसभा के चुनाव में माकपा के पोलित ब्यूरो ने अबकी बार सीताराम येचुरी के नाम पर आपत्ति जता दी. उसके बाद माकपा ने विकास रंजन भट्टाचार्य को चुना. पिछली बार ही माकपा विकास रंजन भट्टाचार्य को राज्यसभा भेजना चाहती थी मगर भट्टाचार्य ने नामांकन पत्र जमा करने में देर कर दी थी. माकपा को कांग्रेस का समर्थन मिल जाने से भट्टाचार्य का निर्वाचन लगभग तय माना जा रहा है.
यह वही भट्टाचार्य हैं जिन्होंने सरेराह गोमांस की दावत का आयोजन किया था. ऐसे व्यक्ति को माकपा ने अपना उम्मीदवार चुना है और कांग्रेस उसका समर्थन कर रही है. लगे हाथ कांग्रेस की एक करतूत का स्मरण करते चलिए. जब केंद्र सरकार द्वारा गोकशी पर प्रतिबन्ध लगाए जाने के विरोध में केरल में सरेआम गाय के बछड़े को काटा गया था. उस समय राहुल गांधी ने उस घटना से पल्ला झाड़ने की कोशिश की थी मगर बछड़े को काटने वाले के साथ राहुल गांधी की फोटो ट्वीटर पर वायरल हो गई थी.
बता दें कि वामपंथी संगठन - भाषा व चेतना समिति की ओर से वर्ष 2015 में बीफ की दावत का आयोजन किया गया था. उस दिन जुमे की नमाज के बाद दोपहर दो बजे कोलकाता के धर्मतल्ला में सड़क के किनारे बीफ की दावत आयोजित हुई थी. विकास रंजन भट्टाचार्य एवं अन्य कुछ लोग दावत में शामिल हुए और बकायदे बीफ खाते हुए फोटो खिचवाया. इस आयोजन के लिए पुलिस से कोई अनुमति नहीं ली गई थी मगर उसके बावजूद पुलिस ने इस दावत में शामिल होने वालों लोगों के लिए सुरक्षा का कड़ा इंतजाम किया था.
इस दौरान कोलकाता के पूर्व मेयर विकास रंजन भट्टाचार्य ने कहा कि “इस देश में बीफ खाना कोई नई परम्परा नहीं है. इसका धर्म से कोई सम्बन्ध नहीं है. इसका एक मात्र उद्देश्य है गरीबों को सस्ते में प्रोटीन देना. हम बीफ खाएं यह हमारी मर्जी है.”