उन्मादी भीड़ ने हिंदुओं के स्कूल को फूंक डाला
   दिनांक 02-मार्च-2020

school principal _1  
अधिवक्ता नितिन (बाएं )व स्कूल की प्रधानाचार्य इंदू शर्मा
दिल्ली के सबसे ज्यादा दंगा प्रभावित इलाके शिवविहार तिराहे के पास ही राजधानी स्कूल है। वहीं बराबर में डीआरपी कॉन्वेंट स्कूल है। राजधानी स्कूल के मालिक मुसलमान हैं तो डीआरपी कॉन्वेंट के मालिक हिंदू हैं। दंगाई बाकायदा रस्सी के सहारे राजधानी स्कूल से डीआरपी स्कूल में उतरे और ?और स्कूल का गेट खोल दिया। इसके बाद उन्मादी भीड़ ने डीआरपी कॉन्वेंट स्कूल को फूंक डाला। वहीं राजधानी स्कूल में सब सामान सलामत था। वहां किसी तरह की तोड़फोड़ नहीं की गई, यहां तक कि दंगाइयों ने वहां आराम से बैठकर खाना खाया और स्कूल की छत का इस्तेमाल बमबारी और आगजनी के लिए किया।
जब हम डीआरपी कॉन्वेंट स्कूल पहुंचे तो स्कूल की प्रधानाचार्य हिंदू शर्मा वहीं पर थीं। उन्होंने बताया कि रविवार को मौजपुर में हुई पत्थरबाजी के बाद 24 फरवरी को जब स्कूल खुला तो ऐसा कुछ नहीं लग रहा था कि यहां पर दंगा होगा, लेकिन नौ बजे के बाद ऐसी सूचनाएं आने लगीं कि इलाके में तनाव बढ़ता जा रहा है। हमने अभिभावकों के घर फोन कर दिया कि वे अपने बच्चों को स्कूल से आकर ले जाएं, समय से पहले हमने 12 बजे ही स्कूल की छुट्टी कर दी। स्कूल का सारा स्टॉफ भी निकल गया। तब तक छोटे—छोटे पॉकेट में कुछ—कुछ घटनाएं शुरू हो गईं। इसके बाद दोपहर तीन बजे हमें पता चला कि बराबर वाले राजधानी स्कूल से आगजनी शुरू हो गई। राजधानी स्कूल की छत पर गाटर में रस्सी बांधकर लोग हमारे स्कूल में उतरे और इसके बाद मुख्य गेट को खोल दिया। उन्मादियों की भीड़ स्कूल के अंदर घुसी और स्कूल को पूरी तरह तोड़ दिया। स्कूल की दीवारों पर पेट्रोल बम से हमला किया गया। एक भी कमरा, स्कूल की लैब, स्कूल के डेस्क सलामत नहीं बचे। पेशे से अधिवक्ता नितिन निचौड़िया बताते हैं कि बराबर में स्थित राजधानी स्कूल का मालिक फारुख फैजल नाम का व्यक्ति है उनके स्कूल से ही स्कूल पर हमला किया गया, वहीं राजधानी स्कूल पूरी तरह सलामत रहा।