कोरोना अटैक: मुसलमानों को भी सोचना चाहिए
   दिनांक 22-मार्च-2020
कोरोना लेकर सरकार द्वारा जारी की गई एडवाइजरी के बाद भी जुम्मे को उत्तर प्रदेश और यूपी में कई जगहों पर मुसलमानों ने मस्जिदों में एकत्रित होकर नमाज पढ़ीं। संख्या भले ही कम थी लेकिन बावजूद इसके सैकड़ों की संख्या में लोग विभिन्न जगहों पर नमाज के लिए एकत्रित हुए थे

zumme ki namaz _1 &n
वैश्विक महामारी बन चुका कोरोना लगातार बढ़ता रहा है। बावजूद इसके लोग मानने को तैयार नहीं हैं। हरियाणा के सोनीपत में उपायुक्त के आदेश के बावजूद राई क्षेत्र के मस्जिद में 800 से ज्यादा लोगों ने एकत्रित होकर जुम्मे की नमाज पढ़ी गई । हालांकि पानीपत जोन के जींद जिले में नमाज के दौरान भीड़ आम दिनों की मुकाबले कुछ कम थी, लेकिन लोग वहां फिर भी जुटे।
बागपत के बड़ौत में स्थित फूंस वाली मस्जिद को मरकजी मस्जिद कहा जाता है जोकि जनपद की लगभग 550 मस्जिदों की हेड है जहां प्रत्येक शुक्रवार को हज़ारों की संख्या में लोग नमाज अदा करने आते हैं, इस बार भी जुम्मे की नमाज के दौरान यहां सैकड़ों की संख्या में लोग नमाज के लिए पहुंचे। इस तरह मोदीनगर में जुम्मे की नमाज के दौरान सैकड़ों की संख्या में मुसलमान पहुंचे और मस्जिद में इकट्ठा होकर नमाज पढ़ी।
कोरोना की चपेट में दुनिया के 168 देश हैं। अब तक कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या दो लाख 75 हजार को भी पार कर चुकी है। दुनियाभर में कोरोना के चलते 11 हजार से ज्यादा मौते हो चुकी हैं। इटली और चीन में यह संख्या सबसे ज्यादा है। जिस तेजी से कोरोना वैश्विक महामारी बन फैलता जा रहा य​दि सावधानी नहीं करती गई तो भारत इसका बड़ा​ शिकार हो सकता है। भारत में अभी तक 336 कोरोना के केस सामने आ चुके हैं। पांच लोगों की कोरोना के चलते अभी तक मौत हो चुकी है।
center for disease dynamics डॉ. रामानन लक्ष्मीनारायण का कहना है कि भारत को कोराना की सुनामी के लिए तैयार रहना चाहिए। उनका मानना है कि इस बात में कोई संदेह नहीं है कि यदि सावधानी नहीं करती गई और जरा सी भी चूक हुई तो भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले और तेज़ी से बढ़ेंगे.
हालांकि भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन विश्‍व (डब्‍लूएचओ) के प्रतिनिधि हेक बेकडम ने कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए भारत सरकार विशेषकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों को सराहा है। बेकडम ने कहा कि प्रधानमंत्री ऑफिस (पीएमओ) की तरफ से जो कदम उठाए गए हैं, वे सभी वाकई असाधारण हैं और प्रभावित करने वाले हैं। उनकी मानें तो यही एक वजह है जो भारत अभी दुनिया के बाकी देशों की तुलना में बेहतर स्थिति में है। बेकडम ने कहा है कि भारत सरकार ने लोगों को एक जगह रखने के लिए जो कदम उठाए हैं, उसने उन्‍हें काफी प्रभावित किया।