केजरीवाल सरकार विज्ञापन पर करोड़ों रुपए खर्च कर सकती है पर डॉक्टरों को वेतन नहीं दे सकती
   दिनांक 22-मार्च-2020
पूर्वी दिल्ली नगर निगम कमिश्नर वर्षा जोशी ने ट्वीट कर बताया है कि निगम के अस्पतालों में तैनात डॉक्टरों को जनवरी 2020 से लेकर अब तक का वेतन नहीं दिया गया है। केजरीवाल सरकार वेतन के लिए फंड जारी नहीं कर रही है


doc_1  H x W: 0
आईजीआई पर तैनात पूर्वी दिल्ली निगम अस्पतालों के डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की टीम
एक तरफ पूरे देश में कोरोना से निबटने के लिए के लिए केंद्र सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। देश में 2 लाख से ज्यादा डॉक्टर्स और स्वास्थ्यकर्मियों समेत तमाम सरकारी एजेंसियां इस वैश्विक महामारी से बचाव के लिए दिन रात एक किए हुए हैं। वहीं दूसरी तरफ दिल्ली नगर निगम के अस्पतालों में तैनात डॉक्टरों को तीन महीने से वेतन तक नहीं दिया गया है। दिल्ली सरकार लगातार किसी ने किसी बहाने से फंड जारी करने से बच रही है।
पूर्वी दिल्ली नगर निगम की कमिश्नर वर्षा जोशी द्वारा कई बार कहे जाने के बावजूद भी दिल्ली सरकार ने डॉक्टरों को वेतन देेने के लिए फंड जारी नहीं किया है। पूर्वी दिल्ली नगर निगम कमिश्नर वर्षा जोशी ने ट्वीट कर बताया है कि डॉक्टरों को जनवरी 2020 से लेकर अब तक सैलरी नहीं दी गई है।
वर्षा जोशी ने एक फोटो ट्वीट किया है। इसमें देख सकते हैं कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम अस्पतालों में कार्यरत डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर विदेश से आने वाले लोगों के स्क्रीनिंग के लिए लगातार डयूटी कर रहे हैं। मेहनती डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टॉफ की टीम 18 से 20 घंटे काम कर रही है लेकिन दिल्ली सरकार को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। पिछले तीन महीनों से वहां डॉक्टरों को तनख्वाह नहीं दी गई है। डॉक्टर्स निःस्वार्थ भाव से जनसेवा में लगे हुए हैं।
वर्षा जोशी के ट्वीट का दिल्ली सरकार के किसी मंत्री या नेता ने कोई जवाब नहीं दिया है। केजरीवाल तमाम विषयों पर बोलते हैं लेकिन ऐसे संवेदनशील मुद्दों पर बयान नहीं दे रहे।
उल्लेखनीय है कि भारत में अभी तक कारोना के 327 मामले आ चुके हैं। इनमें से 26 मामले अकेले दिल्ली के हैं। ऐसे में डॉक्टरों को वेतन न दिया जाना दिखाता है कि दिल्ली सरकार इस समस्या को लेकर गंभीर नहीं है।