गिराई जाएगी आप पार्षद ताहिर हुसैन की अवैध बिल्डिंग !
   दिनांक 04-मार्च-2020
करावल नगर रोड पर 1200 गज जगह में ताहिर ने फैक्ट्री और घर बनाया है। इसके लिए न तो नगर निगम से कोई अनुमति ली गई न ही कोई नक्शा पास करवाया गया। नगर निगम का कहना है कि यदि नियमों का उल्लघंन हुआ है तो निश्चित कार्रवाई होगी


tahir _1  H x W
दगों के दौरान ताहिर के घर आगजनी करती उन्मादी भीड़ (बाएं ), ताहिर हुसैन (दाएं )
उत्तरपूर्वी दिल्ली के इलाकों में हुई हिंसा के दौरान मारे गए आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के मामले में आरोपी आप पार्षद ताहिर हुसैन ने घर और फैक्ट्री का निर्माण भी अवैध तरीके से किया है। पुख्ता सूत्रों के मुताबिक निर्माण के लिए बिल्डिंग प्लान का कोई रिकॉर्ड नगर निगम के पास नहीं है। यानी ताहिर ने निर्माण के जरूरी तमाम नियमों का पूरी तरह से उल्लंघन किया है। इलाके में ताहिर की दंबगई ऐसी है कि 80 फीट चौड़े रोड पर खुलेआम अवैध निर्माण किया और एमसीडी को उस निर्माण को रोकने की हिम्मत नहीं हुई। अब जब मामला प्रकाश में आया है तो नगर निगम इस पर सख्त कार्रवाई करने की बात करते हुए इमारत को ध्वस्त करने की बात कर रहा है।
ताहिर की फैक्ट्री और घर करावल नगर रोड पर चांद बाग पार करते के साथ ही है। पूरा निर्माण 1200 गज जगह में हुआ है और तीन मंजिला इमारत है। जिस रोड पर यह इमारत है वह 80 फीट चौड़ी है। ताहिर ने निर्माण के लिए न तो कोई नक्शा बनवाया और न ही नगर निगम से इसके लिए कोई अनुमति ली। दबंगई का फायदा उठाते हुए उसने अवैध निर्माण कर डाला और नगर निगम ने चूं तक नहीं की। ताहिर से डर के कारण सामने आकर कोई भी उसके बारे में बोलने को तैयार नहीं है। मगर कुछ लोगों ने नाम न छापने की शर्त पर उसके निर्माण के बारे में जानकारी साझा की है। यहां रहने वाले रमेश सिंह (बदला हुआ नाम) का कहना है कि ताहिर की बिल्डिंग उसके निगम पार्षद बनने से पहले ही खड़ी हो गई थी लेकिन उसकी फिनिशिंग का काम अब तक चल रहा है। ताहिर दबंग प्रवृत्ति का है, लोग उससे डरते हैं इसलिए नगर निगम ने भी उसके खुलेआम होने वाले अवैध निर्माण को नजरअंदाज किया या फिर यूं कहें कि उसके खौफ के चलते निगम का कोई कर्मचारी वहां तक नहीं गया, जबकि नगर निगम को पतली-पतली गलियों में होने वाले निर्माण की भनक तक लग जाती है और वह वहां उसके लोग पहुंच जाते हैं। सवाल यह है कि 80 फीट चौड़े रोड पर होने वाले अवैध निर्माण के बारे में नगर निगम को कैसे नहीं पता चला।
पूर्वी दिल्ली नगर निगम की सबसे मजबूत स्टैंडिंग कमेटी के चेयरमैन संदीप कपूर ने कहा कि हमें प्रारम्भिक तौर पर पता चला है कि ताहिर की इमारत पूरी तरह से अवैध रूप से बनी है। इस मामले की जांच के लिए शाहदरा नॉर्थ के चेयरमैन प्रवेश शर्मा ने डिप्टी कमिश्नर रनेन को इमारत की जांच कर सख्त कार्रवाई के आदेश दिए हुए हैं। यदि यह साबित हो जाता है कि वह अवैध निर्माण है तो नियम के मुताबिक कार्रवाई होगी। अवैध निर्माण के मामले में पहले उसे बुक किया जाता है और फिर बिल्डिंग को गिरा दिया जाता है। यदि ताहिर की बिल्डिंग अवैध साबित हुई जोकि प्रारम्भिक तौर पर लग रही है तो उसे भी ध्वस्त किया जाएगा। इस संबंध में प्रवेश शर्मा ने कहा कि शुक्रवार को इस संबंध में बैठक है इसमें डिप्टी कमिश्नर से जांच का क्या स्टेटस है उसके बारे में पूछताछ होगी। वहीं डिप्टी कमिश्नर रनेन कुमार का कहना है कि जांच जारी है। यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा कि निर्माण वैध है या अवैध। निर्माण अवैध हुआ तो नियम के मुताबिक कार्रवाई करेंगे।
ताहिर हुसैन छत पर मिला था तबाही का सामान

patrol bomb _1  
ताहिर छत से बरामद हुए पेट्रोल बम
चांद बाग इलाके में में हुई हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा 48 तक पहुंच गया है। इनमें से कइयों के शव नालों से बरामद हुए हैं। लाशों के मिलने के सिलसिला अभी भी जारी है। ऐसे में मरने वालों का आंकड़ा और बढ़ सकता है। घायलों की तादाद भी 400 पार कर गई है। घायल अब भी अस्पताल पहुंच रहे हैं। करावल नगर में आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के बाद जब शक की सुईं ताहिर पर पहुंची तो उसके पुलिस ने उसके घर की जांच की। वहां से तबाही का सामान मिला। पेट्रोल बम से लेकर गुलेल और थैलियों में तेजाब मिला। यानी हिंसा की पूरी तैयारी पहले कर ली गई थी। पुलिस ने ताहिर पर मामला दर्ज कर उसकी बिल्डिंग को सील कर दिया गया है.