जयंती विशेष: औरंगजेब की आंखों में आंखें डाल गुरु तेगबहादुर ने कहा था सीस कटा सकते हैं धर्म नहीं छोड़ सकते

    दिनांक 12-अप्रैल-2020
Total Views |
राकेश सैन
ये वैसा ही दु:साहस था जैसे नरभक्षी को धर्मोपदेश देना या आज के संदर्भ में उदाहरण लें तो दुर्दांत आतंकी संगठन आईएसआईएस की मांद में जाकर यह कहना कि तुम जिस रास्ते चल रहे हो वह उचित नहीं। लेकिन हिंद की चादर कहाए जाने वाले गुरु तेगबहादुर ने यह बड़े सहजभाव से किया

guru _1  H x W:
अपनी आंखों से एक क्रूर मुगल बादशाह औरंगजेब की पाश्विक वृति देखी और खुद उसका शिकार भी हुए। अकाल पुरख के मार्ग पर चलते हुए सिर दे दिया पर सार अर्थात धर्म नहीं दिया। कट्टर सुन्नी मुसलमान औरंगजेब इस्लाम को लेकर कितना मतांध रहा होगा इसका अनुमान भाई संतोख सिंह द्वारा रचित 'श्री गुरु प्रताप सूरज' में दिए उसके प्रति विवरण से लगाया जा सकता है। गुरु तेगबहादुर जी से मुखातिब होते हुए औरंगजेब कहता है -
हिन्दू रहै न भू महि कोउ। इह निश्चा हमले दिढ होउ।।
निज दहिता तक अरपौं तांही। आइ जु हिन्दु शरा के मांही।
हमारे मति महिं महाँ सबाब। सिफति करहि खुदाइ अदाब।।
अर्थात् मेरा जो उद्देश्य है इस धरती पर हिन्दू कोई न रहे। जो हिन्दू इस्लामी शरा में आ जाएगा, मैं उसको अपनी पुत्री तक अर्पित कर सकता हूं। हमारे मत में यह बड़े पुण्य का कार्य है। इसके उत्तर में श्री गुरु तेगबहादुर जी ने कहा :-
जे प्रभु चहै त हिन्दू न जनमै। तुरक जनम ही वै निस दिन मैं।
(सिक्ख इतिहास में श्री रामजन्मभूमि, प. 95)
अर्थात् 'यदि परमेश्वर ने चाहा होता तो हिन्दू जन्म ही नहीं लेते और तुरक ही दिन-रात पैदा होते रहते।' श्री गुरु तेगबहादुर जी की धर्म के प्रति निष्ठा अनन्य-भाव से थी, इसके 'श्री गुरु प्रताप सूरज' में संतोख सिंह निम्न प्रकार व्यक्त करते हैं:-
तिन ते सुनि श्री तेगबहादर। धरम निबाहनि बिखै बहादर।
उत्तर भन्यो, धरम हम हिन्दू। अति प्रिय को किम करहिं निकन्दू।।
लोक प्रलोक बिखै सुखदानी। आन न पइयति जांहि समानी।
मति मलीन मूरख मति जोई। इस को त्यागहि पांमर ते सोई।।
दीन दुनी महिं दुख को पावै। जम सजाइ दे नहिं त्रिपतावै।
सुमतिवन्त हम, कहु क्यों त्यगहिं। धरम राखिबे नित अनुरागहिं।।

guru _1  H x W:
अर्थात् 'औरंगजेब की बातें सुनकर श्री गुरु तेगबहादुर ने कहा कि अपने अतिप्रिय हिन्दू धर्म का निषेध हम कैसे करें? यह हमारा धर्म, लोक और परलोक दोनों में सुख देने वाला है। हिन्दू धर्म के समान कोई दूसरा धर्म नहीं दिखाई देता। जो मलिन-मति और मूर्ख-मति व्यक्ति है वही इसको त्यागने की सोचता है, वह निश्चय ही पामर है। ऐसा व्यक्ति इस लोक में अत्यन्त दु:ख पाता है और यमराज भी उसको दण्ड देते-देते तृप्त नहीं होता। हम तो सुमतिवन्त हैं, हम क्यों हिन्दू धर्म का परित्याग करें? हमारा तो स्वधर्म की रक्षा में नित्य ही अनुराग है।'
गुरू तेग बहादुर सिखों के नवें गुरु थे जिन्होने प्रथम गुरु नानक द्वारा बताए गये मार्ग का अनुसरण करते रहे। उनके द्वारा रचित 115 पद्य गुरु ग्रन्थ साहिब में सम्मिलित हैं। उन्होने काश्मीरी पण्डितों तथा अन्य हिन्दुओं को बलपूर्वक मुसलमान बनाने का विरोध किया। इस्लाम स्वीकार न करने के कारण 1675 में मुगल शासक औरंगजेब ने उन्हे इस्लाम कबूल करने को कहा कि पर गुरु साहिब ने कहा सीस कटा सकते हैं धर्म नहीं छोड़ सकते।
धरम हेत साका जिनि कीआ। सीस दीआ पर सिरुर न दीआ।
इस महावाक्य अनुसार गुरुजी का बलिदान न केवल धर्म पालन के लिए अपितु समस्त मानवीय विरासत की खातिर था। धर्म उनके लिए सांस्कृतिक मूल्यों और जीवन विधान का नाम था। इसलिए धर्म के सत्य शाश्वत मूल्यों के लिए उनका बलि चढ़ जाना वस्तुत: सांस्कृतिक विरासत और इच्छित जीवन विधान के पक्ष में एक परम साहसिक अभियान था। श्री गुरु तेगबहादुर जी का जन्म अमृतसर में हुआ था। इनके पिता श्री गुरु हरिगोबिन्द जी की मुगलों के साथ बार-बार लड़ाइयाँ लड़ीं व गुरु जी ने इनमें हिस्सा भी लिया। बचपन में इनका नाम त्यागमल था परन्तु इनके पिता ने रण में इन्हें तलवार चलाते देखा तो इनका नाम तेगबहादुर रख दिया।
मुगल बादशाह औरंगजेब सन् 1657 में गद्दी पर बैठा। इसके पूर्व वह गुजरात का सुबेदार था। वहाँ उसने चिंतामणि का विशाल मन्दिर गिरा कर गौहत्या कराई तथा उस मन्दिर के पत्थरों से ही मस्जिद का निर्माण करा दिया। औरंगजेब के शासन में नए मन्दिर बनाने पर तत्काल रोक लगा दी गई। सोमनाथ, मथुरा, काशी के सभी प्रमुख मन्दिर पुन: तोड़ दिए गए। कूच बिहार, उज्जैन, उदयपुर, जोधपुर, गोलकुण्डा तथा महाराष्ट्र आदि स्थानों के सभी प्रमुख मन्दिरों को तोड़ डाला गया। सिख विद्वान भाई गुरदासजी (1551-1636) लिखते हैं -
ठाकुर दुआरे ढाहि के तिह ठउड़ी मसीत उसारा।
मारन गऊ गरीब नू धरती ऊपर पाप बिथारा।।
- (गुरु नानक से गुरु ग्रन्थ साहब तक, पृ. 3)
औरंगजेब ने सर्वप्रथम ब्राह्मणों को ही मुसलमान बनाने की ठान ली थी। उसका विचार था कि ब्राह्मणों की स्वधर्मनिष्ठ शिक्षा से प्राप्त सुदृढ़ संस्कारों के कारण ही साधारण हिन्दू भी अपने धर्म और संस्कृति के प्रति निष्ठा प्रकट करते रहे हैं। इसी कारण, कश्मीर के ब्राह्मणों पर भीषण अत्याचार हो रहे थे। इन सब बातों पर गम्भीरता से विचार-विमर्श करने के उपरान्त, पण्डित कृपाराम दत्त की अध्यक्षता में एक सोलह सदस्यीय शिष्टामण्डल, श्री गुरु तेगबहादुर जी से मिला और बताया
चाहित है करनी सगरी धरनी, दीन सुवरनी तुरकानी।
मन्दिर सबि गेरे देवन केरे, बिन ही देरे अभिमानी।।
करि जोर बजोरी लाज न छोरी, जालम खोरी तुरकानैं।
हिन्दुन की बेटी बहु समेटी, दुशटनि भेंटी जबरानै।
इस हित मिल सारनि करिओ विचारन, राखन कारन धरम निजै।
राखन सरनाई लीनी आई, लैहू बचाई दान दिजै।
- (सिक्ख इतिहास में श्रीराम जन्मभूमि, पृष्ठ 86)
अपने होनहार पुत्र गोबिंद राय (श्री गुरु गोबिंद सिंह) को गुरुगद्दी सौंप श्री गुरु तेगबहादुर अपने साथियों भाई मतीदास छिब्बर (दीवान), भाई सतीदास छिब्बर (रसोइया) तथा भाई दयालदास दयाला (राजा भोज के वंशज) आदि को साथ लेकर दिल्ली की ओर प्रस्थान कर दिये। सरहिन्द के हाकिम ने उन्हें गिरफ्तार कर औरंगजेब के पास भेज दिया। संत शिरोमणि श्री गुरु तेगबहादुर पर क्रूर अत्याचार का दौर लगातार पाँच दिन तक चलता रहा और अंतत: उन्हें साथियों के साथ शहीद कर दिया गया। पूरा विश्व आज उसी महान गुरु की 400 वीं जयंती मना रहा है। ऐसी महान विभूति को सादर प्रणाम।