जाहिल जमातियों से पढ़े लिखे मुसलमानों की अपील

    दिनांक 17-अप्रैल-2020
Total Views |

delhi _1  H x W 
जहां एक और कट्टरपंथी मुसलमान उनके इलाकों में जांच करने गई मेडिकल टीम पथराव कर रहे हैं। मजहब के नाम पर सामाजिक दूरी का पालन न करने की वकालत कर रहे हैं। कोरोना को अल्लाह का अजाब बता रहे हैं। वहीं देश में मुसलमानों का पढ़ा लिखा एक वर्ग ऐसा भी है जो लोगों को सही तालीम दे रहा है। वह उन्हें बता रहा है कि कोरोना से कैसे बचें। ऐसे ही कुछ मुस्लिम क्या कह रहे हैं सुनिए।
 
मोहम्मद इमरान कहते हैं कि मैं सभी लोगों से खासकर जमातियों से कहना चाहता हूं कि वे इधर—उधर न भागें। बल्कि सरकार का प्रशासन का सहयोग करें। अपनी जांच समय रहते करा लें। ये कोरोना वायरस है यह न हिंदू देखता है न मुसलमान, यह जानलेवा है।
एक अन्य व्यक्ति हैं यह कह रहे हैं इस्लाम की कोई भी शिक्षा ऐसा करने को नहीं कहती। कोरोना संक्रमित जो मुसलमान बिना प्रशासन को सूचना दिए घूम रहे हैं वह एटमबम की तरह हैं। देशहित में योगदान करें और सरकार का सहयोग करें।
कोलकाता हाईकोर्ट की अधिवक्ता रुमाना शाहीन कहती हैं कि मैं अपने तमाम भाई बहनों से गुजारिश करना चाहती हूं। कोरोना वायरस जैसी बीमारी से लड़ने के लिए आप अपने—अपने घरों पर रहें। लॉकडाउन का पालन करें। सामाजिक दूरी बनाए रखें। यदि आपको लगता है कि आप कोरोना संक्रमित हैं तो नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाएं और अपनी जांच कराएं। देश और इंसानियत को बचाएं, शुक्रिया जयहिंद।
पश्चिम बंगाल के रहने वाले सैयद रहमान कहते हैं कि आज हिंदुस्थान में कुछ लोगों ने माहौल खराब कर दिया है। उन लोगों मेरी गुजारिश है कि वह ऐसी हरकतों से बाज आएं। इतिहास को देखा जाए तो जो कर्बला की लड़ाई हुई थी वह हिंदू और मुसलमान के बीच नहीं हुई थी। इसी तरह महाभारत का युद्ध भी हिंदू और मुसलमान के बीच नहीं हुआ था। हम सब एक साथ रहने वाले लोग हैं। आज कुछ लोग जो जमात के नाम पर कर रहे हैं वह सही नहीं है। यदि कोई ऐसा कर रहा है तो वह मुसलमानों में से नहीं हो सकता।
मैं तब्लीगी जमात के लोगों से गुजारिश करता हूं तो भी भाई बहन निजामुद्दीन मरकज में जमात में शामिल होने गए थे वह अपनी जांच कराएं। प्रशासन को इस बारे में सूचना दें और इंसानियत का फर्ज निभाएं
यह इस्लामिक विद्धान हैं। यह कह रहे हैं इस्लाम की कोई भी शिक्षा ऐसा करने को नहीं कहती। कोरोना संक्रमित जो मुसलमान बिना प्रशासन को सूचना दिए घूम रहे हैं वह एटमबम की तरह हैं। देशहित में योगदान करें और सरकार का सहयोग करें।