मजहबियों के आगे घुटने टेकने वाली नहीं हूं मैं: बबीता फोगाट

    दिनांक 18-अप्रैल-2020
Total Views |
मलिक असगर हाशमी
तमाम बखेड़ों के बावजूद बबीता फोगाट अपनी बातों पर मजबूती से अडिग हैं। बात का बतंगड़ बनाने वालों को करारा जवाब देते हुए वे कहती हैं कि मैं कोई जायरा वसीम नहीं कि मजहबी लोगों के आगे घुटने टेक दूंगी। उन्होंनेे जमातियों को लेकर कुछ भी गलत नहीं कहा है

babita _1  H x  
‘दंगल गर्ल’ बबीता फोगाट ने तब्लीगी जमातियों की करतूतों पर सच का आइना क्या दिखाया, सेकुलर जमातें और फिरकापरस्त ताकतें उनके पीछे पड़ गई हैं। उन्हें न केवल सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा है बल्कि महाराष्ट्र के औरंगाबाद में उनके खिलाफ नफरत फैलाने के आरोप में प्राथमिकी तक दर्ज करवा दी गई है। हालांकि इन तमाम बखेड़ों के बावजूद बबीता फोगाट अपनी बातों पर मजबूती से अडिग हैं। बात का बतंगड़ बनाने वालों को करारा जवाब देते हुए वे कहती हैं कि मैं कोई जायरा वसीम नहीं कि मजहबी लोगों के आगे घुटने टेक दूंगी। उन्होंनेे जमातियों को लेकर कुछ भी गलत नहीं कहा है। हरियाणा के बलाली की रहने वाली अंतरराष्ट्रीय पहलवान बबीता फोगाट ने ट्विटर पर एक वीडियो डालकर कहा है कि देश में कोरोना वायरस फैलाने के लिए तब्लीगी जमात को जिम्मेदार ठहराने पर उन्हें सोशल मीडिया पर गालियां दी जा रही हैं। फोन कर धमकाया जा रहा है।
 
साथ ही विरोधी इस प्रयास में हैं कि किसी तरह उनका ट्विटर एकाउंट सस्पेंड करा दिया जाए। उनका कहना है कि कुछ दिनों पहले उन्होंने ट्वीट कर कुछ गलत नहीं कहा था। उस पर वह अभी भी कायम हैं। उन्होंने वीडियो जारी कर पूछा है कि क्या तब्लीगी जमात के लोगों ने कोरोना संक्रमण नहीं फैलाया ? क्या वे इसमें नंबर वन नहीं हैं। मैंने टृवीटर पर मजहब, समुदाय, किसी जाति के बारे में नहीं लिखा है बल्कि उनके बारे में लिखा है कि जिन्होंने कोरोना फैलाया है। बबीता कहती हैं कि अगर किसी को सच सुनने में समस्या है तो वे जान लें मैं सच बोलती रहूंगी और लिखती रहूंगी। सच सुनना पसंद नहीं तो आदत सुधार लें और सच सुनने की आदत डाल लें।
गौरतलब है कि भारत के लिए कॉमनवेल्थ गेम्स के रेस्लिंग मुकाबले में स्वर्ण पदक जीतने वाली बबीता फौगाट के ट्विटर पर करीब चाढ़े चार लाख फॉलोवर्स हैं। तब्लीगी जमात पर उनका पहला ट्वीट मरकज के कारनामे उजागर होने के बाद आया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि हमारे यहां जाहिल सुअरों के कारण संक्रमण फैल रहा है। इसके बाद बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान भी अपने एक संदेश में जमातियों को अप्रत्यक्ष तौर पर ‘जोकर’ कह चुके हैं।
हालांकि इसे पूरे मामले पर बबीता की बड़ी बहन गीता फोगाट कहती हैं कि वे ऐसी बेतुकी बातों से पीछे नहीं हटने वालीं है। हमने निडर होकर देश के लिए खेल खेला है और अब देश के लिए बहादुरी से बोलते रहेंगे। इस सबके बाद बबीता फोगाट के हक में भी आवाजें उठने लगी हैं। उनके बयानों का समर्थन करते हुए अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज मनु भाकर ने कहा कि देशहित में बात करने से नहीं चूकना चाहिए। बबीता का समर्थन पहलवान बजरंग पुनिया ने भी किया है।
उल्लेखनीय है कि देश में शुक्रवार तक कोरोना के 11616 मरीज थे तथा 450 लोगों की संक्रमण से मौत हो चुकी थी। स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि कुल रोगियों में तरीबन 40 फीसदी तब्लीगी जमात से हैं या उनके संपर्क में आने वाले लोग हैंं।