राहुल जी ! उत्तर प्रदेश ने कोरोना के टेस्ट और इलाज में ब्रिटेन को भी पीछे छोड़ा

    दिनांक 21-अप्रैल-2020   
Total Views |
 
collage rahul _1 &nb
हाल ही में राहुल गांधी ने प्रेस से बात करते हुए कहा कि लॉक डाउन , कोरोना वायरस का स्थाई हल नही है. उन्होंने कोरोना वायरस का तोड़ बताते हुए कहा कि “ज्यादा से ज्यादा से टेस्ट किये जाएं ताकि यह डिटेक्ट हो सके कि कितने लोग संक्रमित हैं.” उन्हें शायद यह मालूम नहीं कि उत्तर प्रदेश में कोरोना का जिस तरह से टेस्ट और इलाज किया जा रहा है. उसकी तुलना में ब्रिटेन भी पीछे छूट गया है. यकीन न हो तो आंकड़ों से सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा
ब्रिटेन में जहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. उसी के साथ मरीजों की मौत की संख्या भी बढ़ती जा रही है. वहीं उत्तर प्रदेश ने इस पर काफी हद तक नियंत्रण कर रखा है. आंकड़ों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश का क्षेत्रफल 93,933 स्क्वेयर मील है, वहीं ब्रिटेन का क्षेत्रफल 93,628 स्क्वेयर मील है. आबादी की बात करें तो ब्रिटेन की आबादी करीब 6.6 करोड़ है तो उत्तर प्रदेश की आबादी 23 करोड़ यानी ब्रिटेन से करीब 4 गुना अधिक है. एक तरफ वह देश है जो पूरी तरह से विकसित है, जहां की चिकित्सा सुविधाओं से लेकर अन्य सभी सुविधाएं एक मिशाल के तौर पर पेश की जाती हैं, वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश एक विकासशील देश भारत का एक राज्य मात्र है. लेकिन कोरोना ने जब अपना प्रकोप दिखाना शुरू किया तो ब्रिटेन का मैनेजमेंट फेल हो गया जबकि योगी सरकार कोरोना को नियंत्रित करने में सफल होती दिख रही है.
ब्रिटेन में अबतक 3,82,650 टेस्ट हो चुके हैं, जिसमें से 93,873 लोग कोरोना संक्रमित निकले हैं. प्रतिशत के आधार पर देखें तो करीब 25% लोग संक्रमित पाए गए. अब तक 12,107 लोगों की मौत हो चुकी है. कुल पॉजिटिव पाए गए मरीजों में से करीब 13 प्रतिशत मरीजों की मौत हो चुकी है.
वहीं उत्तर प्रदेश में अब तक 16,720 संदिग्धों के कोरोना टेस्ट हो चुके हैं. इनमें से 727 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है. यानी कुल टेस्ट में से अब तक सिर्फ 4.4 प्रतिशत लोग ही कोरोना पॉजिटिव निकले हैं. वहीं सूबे में अब तक सिर्फ 8 लोगों की मौत हुई है, जो कि कुल मरीजों की संख्या का सिर्फ 1 प्रतिशत है और अगर इन आंकड़ों में तब्लीगी जमात के लोगों या उनके संपर्क में आए मरीजों की संख्या कम कर दी जाए तो यह प्रतिशत आधे से भी कम रह जाता है.