कट्टर हिन्दुओं शुक्र मनाओ, अगर अरब और मुस्लिम जगत से शिकायत कर दी तो सैलाब आ जाएगा

    दिनांक 30-अप्रैल-2020   
Total Views |
 
दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफरूल इस्लाम खान की भारत विरोधी हरकत पर आम आदमी पार्टी की चुप्पी से देश का सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। राजनीतिक दलों और सामाजिक संगठनों ने उन्हें जेल में डालने से लेकर पद से हटाने की मांग की है।
a_1  H x W: 0 x
दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष जफरूल इस्लाम खान की भारत विरोधी हरकत पर आम आदमी पार्टी की चुप्पी से देश का सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। राजनीतिक दलों और सामाजिक संगठन उन्हें जेल में डालने से लेकर पद से हटाने की मांग को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर लगातार दबाव बनाए हुए हैं। बावजूद इसके केजरीवाल ने अब तक चुप्पी की मोटी चादर ओढ़ी हुई है।
 
दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग एवं मुस्लिम-ए-मशावरात के अध्यक्ष जफरूल इस्लाम खान पर कुवैत सरकार को भारत के अंदरूनी मामले में दखल देने के लिए उकसाने और जाकिर नायक जैसे भगौड़े को मुसलमानों के हीरो के तौर पर पेश करने का गंभीर आरोप है। उनके फेसबुक पोस्ट में कुवैत सरकार का भारतीय मुसलमानों के साथ खड़ा होने के लिए धन्यवाद करते हुए कहा गया है कि हिंदुत्व की सोच रखने वालों ने सोचा था कि अरब और मुस्लिम जगत भारत के साथ अपने बड़े आर्थिक संबंधों के कारण मुसलमानों के उत्पीड़न की परवाह नहीं होगी। मगर कट्टरपंथी भूल गए कि भारत, अरब और मुस्लिम जगत में इसलिए लोकप्रियता है, क्योंकि सदियों से यह इस्लामी मुद्दों की सेवा और इस्लामी और अरब विज्ञान में उनकी अग्रणी भूमिका रही है। शाह वलीउल्लाह देहलवी, इकबाल हसन नदवी, मौलाना वहीदुद्दीन खान और जाकिर नायक जैसे देश के इस्लामी विद्वान आज भी अरब और मुस्लिम दुनिया के घर-घर में लोकप्रिय हैं। लेकिन भारत के मुसलमानों के खिलाफ जिस प्रकार से नफरत फैलाई जा रही है यदि इसकी शिकायत अरब और मुस्लिम दुनिया से कर दी गई तो सैलाब आ जाएगा।
 
 
जफरूल इस्लाम खान की धमकी भरी यह फेसबुक पोस्ट तब्लीगी जमात द्वारा देश में कोरोना फैलाने को लेकर देश-दुनिया में आलोचना का पात्र बनने के बाद साझा की गई थी। इसके नाम पर ही पाकिस्तान की खिफाया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर अरब देशों में फेक न्यूज फैलाकर भारत विरोधी अभियान चला जा रहा है। हालांकि, ऐसे किसी अभियान से कुवैत, सउदी अरब आदि सउदी देशों ने खुद को अलग कर लिया है।
 
जफरूल इस्लाम खान के इस विवादास्पद पोस्ट पर भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन ने नाराजगी जताते हुए इसे घोर निंदनीय करार दिया। उनका कहना है कि देश के अंदरूनी मामले में कोई भी बाहरी देश दखल नहीं दे सकता। खान का यह बयान भारत की छवि खराब करने वाला है। उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। तो वहीं भाजपा कि राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा कहते हैं कि आतंकी गतिविधियों एवं हवाला के मामले में भारत ने जाकिर नायक को भगौड़ा घोषित कर रखा है। ऐसा अपराधी किसी समुदाय का हीरो कैसे हो सकता है ? उन्होंने कहा कि जफरूल इस्लाम की पोस्ट में देश को धमकी दी गई है, जिस पर सीधे-सीधे देशद्रोह का मुकदमा बनता है। इसलिए उनकी तुरंत गिरफ्तारी होनी चाहिए।
 
गौरतलब है कि 28 अप्रैल को फेसबुक वॉल पर डाले गए विवादास्पद पोस्ट पर दिनोंदिन राजनीतिक गरमाती जा रही है। बावजूद इसके लिए दिल्ली की आम आमदी पार्टी सरकार चुप्पी साधे बैठी हुई है। दूसरी तरफ सामाजिक संगठनों एवं राजनीतिक दलों द्वारा दिल्ली सरकार पर जफरूल इस्लाम खान को अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष पद से हटाने का दबाव बढ़ता जा रहा है। इससे पहले जफरूल इस्लाम स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना वायरस से प्रभावित तब्लीगी जमातियों के आंकड़े दिए जाने के विरूद्ध आवाज बुलंद कर दिल्ली सरकार की फजीहत करा चुके हैं।