कोरोना संकट: राहत के लिए आगे आया आर्ट ऑफ लिविंग
   दिनांक 07-अप्रैल-2020
कोरोना की जंग में देश के मठ-मंदिर, सामाजिक संस्थाएं एवं धर्मगुरू समाज सेवा में लगे हुए हैं। इसी कड़ी में आर्ट ऑफ लिविंग के कार्यकर्ताओं ने आईएएचवी के साथ मिलकर देश में अलग-अलग स्थानों पर लाखों प्रवासी मजदूरों, परिवारों और जरूरतमंदों को 500 टन आवश्यक राहत सामग्री पहुंचाई है

collage _1  H x
कोराना की जंग में देश के मठ-मंदिर, सामाजिक संस्थाएं एवं धर्मगुरू समाज सेवा में लगे हुए हैं। इसी कड़ी में आर्ट ऑफ लिविंग के स्वयंसेवकों ने आईएएचवी के साथ मिलकर देश में अलग-अलग स्थानों पर लाखों प्रवासी मजदूरों, परिवारों और जरूरतमंदों को 500 टन आवश्यक राहत सामग्री पहुंचाई है। साथ ही संस्थान ने हैदराबाद में भी एक अस्पताल की व्यवस्था की है। इसमें तनाव और चिंता को दूर करने संबंधी परामर्श के लिए एक ऑनलाइन हेल्प लाइन भी जारी की गई है। लगातार प्रयासों के चलते आर्ट ऑफ लिविंग के स्वयंसेवकों ने अपने सहयोगी संस्थान इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर ह्यूमन वैल्यूज के साथ मिलकर देश के सभी कोनों में, जिनमें-महाराष्ट्र, कर्नाटक, पंजाब, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, दिल्ली और जम्मू राज्य में लगातार बिना थके हुए राहत सामग्री पहुंचा रहे हैं। कार्यकर्ताओं ने देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे एक लाख से अधिक दैनिक श्रमिकों और प्रवासी मजदूरों को राहत सामग्री पहुंचाई है। आर्ट ऑफ लिविंग एवं आईएएचवी ने इस अभियान में फिल्म और टीवी के सहयोगियों को शामिल करते हुए देशभर में लाखों परिवारों को 10 दिन का राशन वितरित किया। 500 टन राहत सामग्री का वितरण देश के विभिन्न हिस्सों में किया गया, जिसमें भोज्य पदार्थ, दवाईयां और सेनेटाइजर शामिल हैं।
रोगियों को खोजने में मदद कर रहे कार्यकर्ता
आर्ट ऑफ लिविंग एवं इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर ह्यूमन वैल्यूज से जुड़े कार्यकर्ता कोरोना के मरीजों को खोजने में प्रशासन की मदद कर रहे हैं। साथ ही समाज को जागरूक कर रहे हैं। संस्थान ने एक राष्ट्रीय हेल्प लाइन -08067612338 जारी की है, जहां आर्ट ऑफ लिविंग के शिक्षक लॉक डाउन में तनाव और चिंता से गुजर रहे लोगों को परामर्श दे रहे हैं। इसी तरह मानसिक राहत देने के लिए आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रवि शंकर जी दिन में दो बार, दोपहर 12 बजे और शाम को 7:30 बजे ध्यान करा रहे हैं। इस दौरान श्री श्रीरवि शंकर ने प्रत्येक व्यक्ति से आग्रह किया कि इस संकट की घड़ी में, जितना संभव हो सके एक दूसरे की मदद करें।
दिल्ली में भी जरूरतमंदों को पहुंचा रहे राहत
दिल्ली, एनसीआर और उसके आसपास के इलाकों में प्रवासी कर्मचारियों, बस्तियों और गांवों में 2.14 लाख से अधिक भोजन के पैकेट बांटे गए हैं। इस दौरान दिल्ली पुलिस, एनडीआरएफ और अन्य सहयोगी एनजीओ ने भी सहयोग किया।