लॉक डाउन तोड़ने पर पूजा की थाली हाथ में लेकर मेढक की चाल चलने कादिया था आदेश , दारोगा निलंबित

    दिनांक 01-मई-2020   
Total Views |
उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। वीडियो में हाथ में पूजा की थाली लिए एक बुजुर्ग को रास्ते में पुलिस ने रोककर लॉक डाउन तोड़ने की सजा के रूप में मेढक की तरह चलने का आदेश दिया था।

s_1  H x W: 0 x
हाल ही में उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। वीडियो में हाथ में पूजा की थाली लिए एक बुजुर्ग को रास्ते में पुलिस ने रोक लिया। दारोगा ने बुजुर्ग व्यक्ति से कहा कि मेढक की तरह चलकर वह मंदिर तक जाएं। लॉक डाउन तोड़ने की इस तरह की सजा की हर तरफ आलोचना की गई। वीडियो के बारे में पड़ताल हुई तो पता लगा कि यह वीडियो कानपुर जनपद के पनकी थाना क्षेत्र का है। बुजुर्ग को सजा सुनाने वाले थाना प्रभारी विनोद सिंह हैं। आलोचना के बाद बेढंगा दंड देने पर पनकी थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया।
उल्लेखनीय है कि कानपुर नगर के पनकी थाना क्षेत्र में एक बुजुर्ग व्यक्ति को रास्ते में पुलिस ने रोका। वहां पर पनकी के थाना प्रभारी विनोद सिंह भी थे। थाना प्रभारी विनोद सिंह ने अपना रौब दिखाते हुए बुजुर्ग को डांटा और फिर अपना आदेश सुनाया। पुलिस के डर से बुजुर्ग व्यक्ति को उस आदेश का पालन करना पड़ा। यह वीडियो जैसे ही वायरल हुआ, सोशल मीडिया में लोगों ने थाना प्रभारी के खिलाफ आक्रोश व्यक्त करना शुरू किया। कानपुर नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने इस प्रकरण के संज्ञान में आने के बाद क्षेत्राधिकारी नजीबाबाद को जांच सौपी। जांच रिपोर्ट में थाना प्रभारी को दोषी ठहराया गया। क्षेत्राधिकारी की जांच रिपोर्ट आने के बाद कानपुर नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने थाना प्रभारी पनकी को निलंबित कर दिया। पुलिस अधीक्षक (पश्चिम) अनिल कुमार ने कहा, “बुजुर्ग को घर के अन्दर पूजा करने के लिए कहा गया था। मगर थाना प्रभारी पनकी का रवैया ठीक नहीं था। जांच रिपोर्ट आने के बाद थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है।"