उत्तर प्रदेश में 'लैंड बैंक ' बनाकर लगेंगे उद्योग

    दिनांक 14-मई-2020
Total Views |
उत्तर प्रदेश में बहुत बड़ा "लैंड बैंक" तैयार किया जा सकता है. प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत-सी जमीनें खाली पड़ी हैं. ऐसी जमीनों को चिन्हित कर उसकी जानकारी शासन को उपलब्ध कराने को कहा गया है. इन जमीनों के चिन्हित हो जाने के बाद वहां पर उद्योगों को लगाने का कार्य शुरू किया जाएगा

yogi adityanath _1 &
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि "प्रदेश में बहुत बड़ा भू-भाग है जो सरकारी जमीनों के रूप में है. यह जमीन चाहे राजस्व विभाग की हो, सिचाई विभाग की हो, या उद्योग विभाग की. ऐसी जमीनों का चिन्हित करने का कार्य शुरू कर दिया जाए. ऐसी जमीनों को "लैंड बैंक" में परिवर्तित करते हुए इन पर उद्योग लगाने की व्यवस्था की जाए."
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा एमएसएमई सेक्टर के लिए तीन लाख करोड़ रुपये का विशेष आर्थिक पैकेज दिया गया है. इससे एमएसएमई सेक्टर में एक नई जान आएगी और भारत निश्चित ही ग्लोबल इकॉनॉमी के रूप में उभरेगा. उत्तर प्रदेश में एमएसएमई की सर्वाधिक यूनिट हैं. प्रदेश में इस सेक्टर से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रुप से जुड़े लगभग तीन करोड़ लोगों को एक नई ताकत मिलेगी. प्रदेश के अंदर एमएसएमई सेक्टर को ध्यान में रखते हुए सरकार ने स्टेट लेवल बैंकर्स कमेटी की बैठक पहले ही कर ली है. उत्तर प्रदेश में 36 हजार से अधिक एमएसएमई सेक्टर में कार्य करने वाले उद्मियों के लिए सरकार ने लोन मेले की ऑनलाइन व्यवस्था प्रारंभ की है.”
अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि " प्रदेश में औद्योगिक विकास पर बल देते हुए सीएम योगी ने औद्योगिक विकास विभाग को जल्द से जल्द सेक्टोरल नीति लाने का निर्देश दिया है. विभाग के अलग-अलग सेक्टरों के लिए भी सेक्टोरल नीति बनाई जाएगी.”