लद्दाख और उत्तरी सिक्किम में भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ा, भारतीय सेना ने तैनाती बढ़ाई

    दिनांक 20-मई-2020
Total Views |
 
india china _1  
चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। लद्दाख और उत्तरी सिक्किम में चीन के कारनामों के चलते भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ रहा है। चीन द्वारा लद्दाख में सैनिकों की संख्या बढ़ाए जाने के बाद भारत ने भी अपनी सैन्य तैनाती यहां पर बढ़ा दी है। हाल के दिनों में यहां दो बार भारत और चीन के सैनिकों में छोटी—छोटी झड़पें हो चुकी हैं।
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों चीनी सेना के हेलिकॉप्टरों ने भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की थी। जवाब में भारत ने यहां सुखोई जैसे फाइटर जेट तैनात कर दिए थे और अपने क्षेत्र में उड़ानभर चीन को चेतावनी भी दी थी। बावजूद इसके चीन बाज नहीं आ रहा है।
दरअसल भारत ने हाल ही में मानसरोवर यात्रा के लिए लिपुलेख और धारचूला के बीच 90 किलोमीटर लंबा शानदार सड़क बनाई है। इसको बनाते समय सैन्य जरूरतों को प्राथमिकता दी गई है। इसके चलते चीन ऐसी छोटी हरकतें कर रहा हैं।
इस क्षेत्र में चीन के चलते 1960 से ही तनाव की स्थिति है। 1962 में यहां शुरू हुई झड़प युद्ध में तब्दील हो गई थी। गालवन नदीं और पेन्गोंग झील के करीब दोनों सेनाओं ने टुकड़ियां बढ़ा दी हैं। चीन ने गालवन घाटी के अपनी तरफ वाले हिस्से में कुछ टेंट लगाए हैं। भारतीय सेना उसकी हरकतों पर पैनी नजर बनाए हुए है। भारतीय सेना ने भी यहां गश्त बढ़ा दी है।
बताया जा रहा है कि पांच मई की सुबह भारत और चीन के सैनिकों के बीच पेन्गोंग झील के पास झड़प हुई थी। इस दौरान पत्थरबाजी भी हुई थी। वहीं 9 मई को सिक्किम के नाकु ला दर्रे में भी 150 चीनी सैनिक भारतीय सैनिकों से भिड़ गए थे। भारतीय सैनिकों ने चीन के सैनिकों को कड़ा जवाब दिया था।