छत्तीसगढ़: आरएसएस ने प्रवासी मजदूरों से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में एक लाख 96 हजार लोगों तक पहुंचाई मदद

    दिनांक 21-मई-2020
Total Views |
छत्तीसगढ़ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कामकाज पर कांग्रेस को सवाल उठाने से पहले इन आंकड़ों पर गौर कर लेना चाहिए। संघ के छत्तीसगढ़ प्रांत के सह प्रचार प्रमुख ने छत्तीसगढ़ प्रांत में जरूरतमंदों की मदद के साथ-साथ प्रवासी मजदूरों के लिए किए जा रहे सेवा कार्यो का सिलसिलेवार ब्योरा प्रस्तुत किया

rss chattish garh _1 
प्रतीकात्मक फोटो
संघ के छत्तीसगढ़ प्रांत के सहप्रचार प्रमुख ने कहा कि संघ प्रचार पर नहीं, काम पर ज्यादा जोर देता है। संघ की कोशिश है कि कोरोना संकट में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक मदद पहुंचे। संघ का हर गली-मोहल्ले में नेटवर्क है। संघ को आम आदमी और उनकी आर्थिक स्थिति के बारे में जानकारी के लिए किसी प्रकार के सर्वे की जरूरत नहीं होती है। कोरोना संकट में प्रदेश में संघ ने 15 मई तक एक लाख 96 हजार लोगों तक मदद पहुंचाई है। यह लोग गरीब बस्तियों से लेकर आदिवासी क्षेत्रों के रहने वाले थे। 65,808 परिवारों को राशन बांटा गया और भोजन भी पहुंचाया।
पशुओं के चारा और रक्तदान की भी है व्यवस्था
लॉकडाउन के दौरान संघ की ओर से हरी सब्जी के वितरण के साथ मास्क, होम्योपैथी दवा, पशुओं के लिए चारा और रक्तदान की व्यवस्था की जा रही है। शहरी क्षेत्र में कई सामाजिक संगठन सक्रिय हैं, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को ज्यादा मदद की दरकार है। संघ के स्वयंसेवकों ने अब तक 24,404 गांवों में सेवा कार्य किया है। इसमें सफाई से लेकर अन्य जागरूकता अभियान शामिल हैं। पड़ोसी राज्यों के लोगों की मदद के लिए भी स्वयंसेवक आगे आ रहे हैं। ओडिशा, झारखंड और मध्य प्रदेश की सीमाओं पर श्रमिकों को भोजन-पानी की व्यवस्था के साथ-साथ गर्म काढ़ा पिलाया जा रहा है।