समतलीकरण के दौरान अयोध्या में मिलीं प्राचीन मूर्तियां

    दिनांक 21-मई-2020
Total Views |
आज एक बार फिर उन रोमिला थापर जैसी कम्युनिस्ट इतिहासकारों का झूठ बेपर्दा हो गया है. अयोध्या में श्री राम जन्म भूमि परिसर के समतलीकरण का कार्य चल रहा है. इस दौरान वहां कई पुरातात्विक मूर्तियाँ , शिवलिंग , और प्राचीन खम्भे मिले हैं.

r_1  H x W: 0 x
आर्केलाजिकल सर्वे आफ इंडिया की खुदाई में यह बहुत पहले ही प्रमाणित हो गया था कि राम लला विराजमान का जन्म वहीं पर हुआ था मगर कम्युनिस्ट विचारधारा के इतिहासकारों ने शुरुआती दौर में ही गलत जानकारी परोस कर देश और विदेश में भारत की गलत तस्वीर प्रस्तुत की थी. आज एक बार फिर उन रोमिला थापर जैसी कम्युनिस्ट इतिहासकारों का झूठ बेपर्दा हो गया है. अयोध्या में श्री राम जन्म भूमि परिसर के समतलीकरण का कार्य चल रहा है. इस दौरान वहां कई पुरातात्विक मूर्तियाँ , शिवलिंग , और प्राचीन खम्भे मिले हैं.
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चम्पत राय ने बताया कि मलबा हटाने के दौरान 5 फिट आकार की नक्काशी युक्त शिवलिंग की आकृति, कई मूर्तियाँ , काफी संख्या में पुरावशेष, देवी - देवताओं की खंडित मूर्तियाँ, पुष्प कलश, आमलक, दोरजाम्ब आदि कलाकृतियाँ, मेहराब पत्थर, 7 ब्लैक टच स्टोन के स्तम्भ एवं 6 रेड सैंड स्टोन के स्तम्भ प्राप्त हुए हैं.
चम्पत राय ने बताया कि कोरोना महामारी में सरकारी निर्देशों का पालन करते हुए समतलीकरण का कार्य किया जा रहा है. सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया जा रहा है. सभी लोग सेनेटाइजर एवं मास्क का प्रयोग कर रहें हैं. समतलीकरण के कार्य में 3 जेसीबी, 1 क्रेन , 2 ट्रैक्टर एव दस मजदूर कार्य कर रहें हैं. कोरोना की वजह से कार्य धीमी गति से चल रहा है.