जम्मू कश्मीर: हिजबुल कमांडर आतंकी रियाज नाइकू मारा गया

    दिनांक 06-मई-2020
Total Views |
कश्मीर घाटी में आतंकवाद के खिलाफ जंग लड़ रहे सुरक्षाबलों के हाथ बुधवार को बड़ी कामयाबी लगी। अवंतीपोरा में दो अलग-अलग जगह पर जारी मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर रियाज नाइकू समेत अभी तक पांच आतंकवादियों को मार गिराया

riyaz _1  H x W 
नाइकू का मारा जाना हिजबुल को बड़ा आघात माना जा रहा है। 12 लाख का ईनामी हिजबुल आतंकी रियाज नाइकू गत मंगलवार रात को अपने पैतृक गांव बेगीपोरा आया हुआ था, सुरक्षाबलों को यह बात पता चल गई और उन्होंने उसे घेर लिया। उसके साथ 2 से 3 और आतंकवादी भी थे। उसके साथ मारे गए दूसरे आतंकी ही सुरक्षाबलों ने पहचान नहीं बताई है। वहीं अवंतीपोरा से 12 किलोमीटर दूर शारशाली में चल रही दूसरी मुठभेड़ में भी सुरक्षाबलों ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया है।
दक्षिण कश्मीर के अवंतीपोरा में हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर के पैतृक गांव बेगीपोरा में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ अभी भी जारी है। यहां अभी भी एक आतंकी की मौजूदगी बताई जा रही है। आठ साल से घाटी में सक्रिय रियाज नाइकू कई मामलों में वांछित था।
बुरहान वानी के बाद आतंक का पोस्टर बॉय बना था नायकू
 
8 जुलाई, 2016 को अनंतनाग जिले के कोकरनाग इलाके में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में पोस्टर बॉय और कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद रियाज नायकू ने हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर के रूप में कमान संभाली थी। नायकू के सिर पर 12 लाख रुपये का इनाम था। रियाज अहमद नायकू (35 साल) बेहद कम वक्त में हिज्बुल का अहम हिस्सा बन गया था। पुलिस अफसरों के परिवार के लोगों का अपहरण, आतंकी के मरने पर बंदूकों से सलामी जैसे चलन को उसने ही शुरू किया था जिससे हिज्बुल और खतरनाक होता जा रहा था। अपनी छवि की वजह से नायकू ने कई कश्मीरी युवाओं को आतंक की राह पर ले गया था।