प्रवासी श्रमिकों की सुरक्षित घर वापसी के साथ उनके रोजी—रोजगार की चिंता कर रही योगी सरकार

    दिनांक 08-मई-2020
Total Views |
लखनऊ ब्यूरो 
 
प्रवासी श्रमिकों को लेकर 37 ट्रेनें यूपी आ चुकी हैं। इन ट्रेनों में करीब 30 हज़ार से अधिक प्रवासी आए हैं। इसके अलावा पिछले सप्ताह हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश से भी तीस हजार से अधिक श्रमिक लाए गए हैं। 12 हजार से अधिक क्वारंटीन सेंटर बनाये गए हैं। 50 हजार से अधिक प्रशिक्षित चिकित्सकों और पैरा मेडिकल स्टॉफ को तैनात किया गया है।

y_1  H x W: 0 x
गत 7 मई को कई प्रदेशों से श्रमिकों को लेकर 20 ट्रेनें आईं हैं। इसी तरह 8 मई को भी 25 से 30 ट्रेनों के आने की उम्मीद है। इनको सुरक्षित घर तक पहुंचाने के लिए परिवहन निगम की 10 हजार से ज्यादा बसें लगाई गई हैं। आने वाले हर श्रमिक के स्वास्थ्य की जांच क्वारंटीन सेंटरों पर होगी। अगर कोई संदिग्ध मिलता है तो उसे जांच के लिए वहीं आइसोलेट किया जाएगा। स्वस्थ लोगों को इस हिदायत के साथ घर भेजा जाएगा कि वह खुद और परिवार की सुरक्षा के लिए होम क्वारंटीन के नियमों का अनुपालन करें। 12 हजार से अधिक क्वारंटीन सेंटरों पर स्वास्थ्य की जांच के लिए 50 हजार से अधिक प्रशिक्षित चिकित्सकों और पैरा मेडिकल स्टॉफ को तैनात किया गया है। स्वास्थ्य की जांच के बाद जिनको भी होम क्वारंटीन के लिए भेजा जा रहा है, उनको भरण-पोषण के लिए एक हजार रुपया और मानक के अनुसार खाद्यान्न भी उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला प्रशासन को यह निर्देश है कि वे आने वाले श्रमिकों एवं कामगारों से सम्मानजनक व्यवहार करें।
 
 
दक्षता के अनुसार हर श्रमिक को देंगे काम
हर आने वाले श्रमिक की दक्षता का प्रदेश की बेहतरी में उपयोग हो, इसके लिए उसकी दक्षता, पता और मोबाइल नंबर का विवरण दर्ज किया जा रहा है। इन सबको उनकी दक्षता के अनुसार स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए कार्ययोजना बनकर लगभग तैयार है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि "दूसरे प्रदेशों में राज्य के जो भी श्रमिक और कामगार हैं, उनकी सुरक्षित घर वापसी हमारी प्रतिबद्धता है। यह सिलसिला मार्च के अंतिम हफ्ते से ही जारी है। सभी श्रमिकों की घर वापसी तक यह जारी रहेगा। जिस तरह से घर वापसी का हमारा यह कार्य चल रहा है, उम्मीद है कि श्रमिक शीघ्र ही अपने-अपने घर पर होंगे। दूसरे राज्यों की सरकारों से अपने प्रदेश के श्रमिकों की जनपदवार सूची उपलब्ध कराने को कहा गया है। राज्यों से सूची मिलते ही हम अपने प्रदेश के लोगों को लाने की तुरंत व्यवस्था कर रहे हैं।"