कहां गए कॉमरेड!

    दिनांक 17-जून-2020
Total Views |
  (रविशंकर प्रसाद की फेसबुक वॉल से)
आज जब देश का मजदूर समाज अपनी हालत से दुनिया को रुला रहा है, झकझोर रहा है तो मजदूरों के ठेकेदार क्या कर रहे हैं? आप पाएंगे कि वे ऐसा कुछ कर रहे हैं, जिसका मजदूरों से  कोई वास्ता नहीं है। उन्होंने अपने दफ्तरों के दरवाजे मजदूरों के लिए बंद कर दिए हैं।

p50_1  H x W: 0
दिल्ली स्थित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का दफ्तर।


आपातकाल के वक्त कांग्रेस के ‘भाट’ और ‘चारण’ कुछ घंटे के लिए बहक गए थे। तब गलती से वह लिख बैठे थे- इंदू जी, इंदू जी, क्या हुआ आपको- सत्ता के लोभ में भूल गर्इं बाप को?  बाद में गलती का अहसास हुआ तो पलटी मारने में उस्ताद कॉमरेड ने नया गीत गाया, ‘आओ इंदू हम ढोएंगे पालकी,तू बेटी हो वीर जवाहर लाल की।’

आज जब देश का मजदूर समाज अपनी हालत से दुनिया को रुला रहा है, झकझोर रहा है तो मजदूरों के ये ठेकेदार क्या कर रहे हैं? आपको जरूर यकीन हो जाएगा कि वो ऐसा कुछ कर रहे हैं जिसका मजदूरों से कोई वास्ता नहीं है। उन्होंने अपने दफ्तरों के दरवाजे मजदूरों के लिए बंद कर दिए हैं। खुद को कॉमरेड पुकारे जाने में खुश होने वाली यह जमात इंदिरा के पोते की पालकी उठाने के लिए मरी जा रही है। राहुल गांधी ने सड़क के किनारे मजदूरों से बात की, इसे सबसे महान काम बताया जा रहा है और उन्हें मजदूरों का सबसे बड़ा हितैषी कहा जा रहा है। याद दिलाया जा रहा है कि राहुल ने पंजाब में भी मिट्टी खोदते मजदूरों की टोकरी उठाई थी।

अच्छी बात है कॉमरेड! लेकिन आप क्यों इंदिरा के पोते की पालकी उठा रहे हो? लाल झंडा उठाने वाले सारे कहां गायब हो गए? मजदूरों की मदद के वक्त आपके दफ्तरों के दरवाजे बन्द क्यों हैं? सारे कॉमरेड फेसबुक को ही सड़क क्यों समझ बैठे हैं? पालकी उठाने की इसी आदत ने कॉमरेडों से मेहनतकश समाज को दूर कर दिया है। कोरोना काल में मैं मजदूरों के पलायन के बीच कई बार दिल्ली के बाल भवन के सामने वाले ‘भारत की कम्युनिस्ट पार्टी’ के दफ्तर के सामने से गुजरा। बंद दरवाजे के पीछे कुछ गाड़ियां और सुरक्षाकर्मी नजर आए। गांव लौटते कुछ मजदूर सड़क के दूसरी ओर पेड़ की छांव में सुस्ताते दिखे। मैंने एक मजदूर से कहा, ‘काका, उस दफ्तर में चले जाओ। वह मजदूरों की पार्टी है। वहां खाना-पानी और आराम, सब मिल जाएगा।’

मजदूर ने जवाब दिया, ‘वो नेतन की पार्टी है, मजदूरन की राजनीति करने वालों की। मदद थोड़े मिली!’ मैंने उस दफ्तर की तस्वीर ले ली।