पाकिस्तान: चौबीस घंटे में तीन हिंदू लड़कियों का अपहरण

    दिनांक 02-जून-2020   
Total Views |
इस्लामिक सहयोग संगठन ओआईसी की बैठकों में भारत के मुसलमानों को लेकर अकारण बखेड़ा खड़ा करने वाले पाकिस्तान को अपने अल्पसंख्यकों की कतई चिंता नहीं है। उन पर कट्टरपंथियों के बढ़ते जुल्म के बावजूद इसने चुप्पी साध रखी है। परिणाम स्वरूप ऐेसी घटनाओं में निरंतर उछाल आ रहा है। इस क्रम में पाकिस्तान में पिछले चौबीस घंटे में तीन हिंदू लड़कियों का कन्वर्जन करने की नियत से अपहरण कर लिया गया। उनके मां-बाप अपनी पुत्रियों की बरामदगी के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं, पर कहीं से अब तक कोई मदद नहीं मिली है।
m_1  H x W: 0 x
लड़कियों की बरामदगी के लिए प्रदर्शन करते हिंदू

इस्लामिक सहयोग संगठन ओआईसी की बैठकों में भारत के मुसलमानों को लेकर अकारण बखेड़ा खड़ा करने वाले पाकिस्तान को अपने अल्पसंख्यकों की कतई चिंता नहीं है। उन पर कट्टरपंथियों के बढ़ते जुल्म के बावजूद इसने चुप्पी साध रखी है। परिणाम स्वरूप ऐेसी घटनाओं में निरंतर उछाल आ रहा है। इस क्रम में पाकिस्तान में पिछले चौबीस घंटे में तीन हिंदू लड़कियों का कन्वर्जन करने की नियत से अपहरण कर लिया गया। उनके मां-बाप अपनी पुत्रियों की बरामदगी के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं, पर कहीं से अब तक कोई मदद नहीं मिली है।
 
पाकिस्तान के सिंध प्रांत के मीरपुरखास से एक जून को दो हिंदू लड़कियों का कन्वर्जन करने के लिए अपहरण कर लिया गया। इनमें से एक लड़की गांव हाजी सईद बरगाड़ी की है। हद यह है कि उनके घर वालों को अपनी पुत्री के अपहरण में कहीं से मदद क्या मिलती, रिपोर्ट लिखाने के लिए उन्हें दंगान पुलिस स्टेशन के दिनभर बैठे रहना पड़ा। अपहृत लड़की का नाम भागवंती कोहली है। इसके पिता और रिश्तेदारों ने पुलिस प्रशासन की बेरूखी देखकर पाकिस्तान के आम नागरिकों से मदद की गुहार लगाते हुए बेटी को वापस कराने की गुहार लगाई है।
 
बताते हैं कि एक जून को सशस्त्र लोगों की एक टोली लड़की का अपहरण करने के लिए घर में घुस गई। भगवंती कोहली पहले से शादीशुदा है। अपहरण के बाद उसका कन्वर्जन करा दिया गया है। मीरपुरखास से ही पंद्रह वर्षीय हिंदू लड़की सुनतारा पुत्री रायसिंह कोहली का भी अपहरण कर लिया गया। वह ग्राम रईस नेहाल खान जमाली की रहने वाली है। इस मामले में उसके अभिभावकों ने पुलिस थाना शेख भिरक्यो, टांडो मुहम्मद खान में मामला दर्ज कराया है। इसका अपहरण करने वाले कट्टरपंथी भी हथियारबंद होकर आए थे। घर पर धावा बोलकर लड़की को उठा ले गए। उसकेे अभिभावकों को जानकारी मिली है कि अहपरण के बाद से उनकी पुत्री का लगातार यौन शोषण किया जा रहा है।
 
पिछले चौबीस घंटे के अंदर सिंध के खैरपुर से भी एक बाहर वर्षीय हिंदू लड़की का मजहबी गुंडों ने अपहरण कर लिया और उसका लगातार यौन शोषण किया जा रहा है। पाकिस्तान के एक्टिविस्ट राहत औस्टीन कहते हैं कि हिंदू लड़कियों का अपहरण करने वाले पहले उनके साथ कई दिनों तक दुष्कर्म करते हैं। फिर उंची कीमत पर बेचने की नियत से उनका कन्वर्जन कर किसी से निकाह पढ़वा दिया जाता है। इस घटना के बाद से बारह वर्षीय लड़की की मां का रो-रो के बुरा हाल है।

इन घटनाओं के विरोध में सिंध प्रांत में कई जगह प्रदर्शन हो चुके हैं। मगर प्रशासन की ओर से हिंदू बच्चिों को मजहबी गुंडों के चंगुल से छुडाने के लिए अब तक कोई प्रयास नहीं किए गए हैं। ऐसे मामलों में पाकिस्तानी मीडिया का रवैया भी बेहद संदिग्ध है। ऐसी घटनाओं को कवर ही नहीं करते। इधर, ऐसे मामले निरंतर प्रकाश में आने के बावजूद भारत में मुसलमानों के नाम पर आंसू बहाने वाले भी पाकिस्तान के हिंदुओं के प्रति हो रही ज्यादतियों को लेकर चुप्पी साधे हुए हैं।