हिंदू बनकर प्रेमजाल में फंसाया जब लड़की को सच पता चला तो उसे मार डाला

    दिनांक 03-जून-2020
Total Views |

collaage sakib _1 &n
लवजिहाद का शिकार हुई बीकॉम की छात्रा और पुलिस के हत्थे चढ़ा शाकिब.
उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के रहने वाले शाकिब ने अपना नाम अमन बता कर एक हिन्दू लड़की को प्रेम जाल में फंसाया और फिर उसे घर से भगा लाया. दोनों मेरठ में आकर रहने लगे. कुछ दिन बीतने के बाद लड़की को जैसे ही पता लगा कि अमन का असली नाम शाकिब है तो उनके बीच लड़ाई हो गई। लड़की ने पुलिस में जाने की बात कही तो शाकिब ने कोल्ड ड्रिंक में नशीली दवा पिलाकर उसे बेहोश कर दिया. इसके बाद खेत में ले जाकर उसका गला काट कर हत्या कर दी. पुलिस को 13 जून 2019 को लड़की का अज्ञात शव मिला. काफी प्रयास के बाद पुलिस को घटना का कोई भी सुराग नहीं मिल पा रहा था. लगभग एक वर्ष के बाद अब पुलिस ने घटना का खुलासा कर शाकिब को गिरफ्तार कर लिया है.
जानकारी के अनुसार मेरठ जनपद का निवासी शाकिब पंजाब के लुधियाना में नौकरी करता था. लुधियाना के मोतीनगर थाना क्षेत्र में रहने वाली बी.कॉम की छात्रा पर उसकी नजर पड़ी. शाकिब ने पहले ही समझ लिया कि अगर छात्रा को यह पता लग गया कि वह मुसलमान है तो वह उससे बातचीत भी नहीं करेगी. शाकिब ने छात्रा से मुलाक़ात का बहाना खोजा और अपना नाम अमन बताया. छात्रा ने उसकी बात पर विश्वास कर लिया. शाकिब के फरेब को वह समझ नहीं पाई और वर्ष 2019 में करीब 25 लाख रूपये के गहने लेकर घर से भाग गई. शाकिब उस छात्रा को भगा कर मेरठ लिवा आया. मेरठ जनपद के दौराला थाना अंन्तर्गत एक किराए के कमरे में लाकर ठहराया. गत वर्ष जब ईद का अवसर आया तब शाकिब उस छात्रा को अपने गांव ले गया. तब उस छात्रा को पता लगा कि अमन का असली नाम शाकिब है और वह मुसलमान है. छात्रा ने इसका विरोध किया. जब शाकिब ने देखा कि छात्रा नहीं मान रही है तो उसने नशीली दवा पिलाकर बेहोश किया और फिर खेत में ले जाकर गला काट कर हत्या कर दी.
पुलिस , कई महीनों तक ख़ाक छानती रही मगर कहीं कोई सुराग हाथ नहीं लग रहा था. इसके बाद मेरठ की पुलिस को पता लगा कि लुधियाना जनपद की 23 वर्षीय बी. कॉम की छात्रा अपने घर से गायब है. मेरठ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय साहनी ने बताया कि " यह बहुत ही ब्लाइंड मर्डर केस था. कई प्रकार के प्रयास किए जा चुके थे. मगर बाद में हम लोगों ने मेरठ के दौराला थाना क्षेत्र के लोइया गांव के हर उन युवकों के बारे में पता लगाया जो बाहर नौकरी करते हैं. एक साल की मेहनत के बाद जब शाकिब के बारे में छानबीन की गई तो इस हत्याकांड का खुलासा हो सका. इस हत्याकांड में अन्य लोगों के शामिल होने की भी संभावना है."