पीओजेके में चीन-पाकिस्तान के खिलाफ स्थानीय नागरिकों का फूटा गुस्सा, बांध के अवैध निर्माण के खिलाफ किया प्रदर्शन

    दिनांक 07-जुलाई-2020
Total Views |
पांचजन्य ब्यूरो
 

पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू-कश्मीर (पीओजेके) के मुजफ्फराबाद में स्थानीय नागरिकों ने चीन और पाकिस्तानी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। नीलम और झेलम नदी पर गैरकानूनी ढंग से बन रहे हाइड्रोपावर प्लांट के खिलाफ स्थानीय नागरिकों ने रैली निकालकर विरोध जताया। इस दौरान प्रदर्शन कर रहे नागरिकों ने पाकिस्तान और चीन के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।

pk_1  H x W: 0


पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू-कश्मीर (पीओजेके) के मुजफ्फराबाद में स्थानीय नागरिकों ने चीन और पाकिस्तानी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया है। नीलम और झेलम नदी पर गैरकानूनी ढंग से बन रहे हाइड्रोपावर प्लांट के खिलाफ स्थानीय नागरिकों ने रैली निकालकर विरोध जताया। इस दौरान प्रदर्शन कर रहे नागरिकों ने पाकिस्तान और चीन के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।स्थानीय लोगों ने मीडिया से कहा कि बांध बनाने से पर्यावरण पर बुरा असर पड़ेगा। इस दौरान एक प्रदर्शकारी ने कहा कि इस मुद्दे को दुनिया तक पहुंचाने के लिए ट्वीटर पर बाकायदा कैंपेन शुरू किया गया है। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से हम दुनिया को बताएंगे कि पाकिस्तान अपने फायदे के लिए हमारे साथ कितना बुरा बर्ताव और सौतेला व्यवहार कर रहा है।


उल्लेखनीय है कि यह पावर प्लांट चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) का हिस्सा है। विरोध प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने कहा कि बांधों के लिए पाकिस्तान और चीन की सरकारों के बीच जो समझौता हुआ है, हम स्थानीय नागरिक इसके लिए बिल्कुल सहमत नहीं हैं। स्थानीय लोगों ने यह भी कहा कि जब यह क्षेत्र विवादित है तो फिर यहां चीन-पाकिस्तान किस कानून के तहत बांध बना रहे हैं। हम विरोध में कोहाला प्रोजेक्ट तक रैली निकालेंगे। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि प्लांट के लिए नदियों पर कब्जा किया जा रहा है। यह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएएसी) के प्रस्ताव का उल्लंघन है। बता दें कि अभी हाल ही में चीनी कंपनी और  चीन, पाकिस्तान सरकार के बीच कोहाला में 1,124 मेगावाट के हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट को लेकर 2.4 बिलियन डॉलर का त्रिपक्षीय समझौता हुआ था।