शिवपाल यादव की पार्टी का जिलाध्यक्ष निकला हथियार तस्कर

    दिनांक 11-सितंबर-2020   
Total Views |
  गत 7 सितम्बर को हापुड़ जिले की पुलिस ने हथियार सप्लाई करने वाले गैंग का भंडाफोड़ किया। पुलिस का दावा है कि नावेद हथियार सप्लाई करने वाले गैंग का मुख्य सरगना है। बुलंदशहर का रहने वाला नावेद पठान कुछ वर्षों से राजनीति में सक्रिय था। नावेद पठान, रालोद का जिला उपाध्यक्ष था। उसके बाद वह भारतीय किसान यूनियन में शामिल हो गया। जब शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी से अलग होने के बाद अपनी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बनाई तब नावेद शिवपाल यादव की पार्टी का जिलाध्यक्ष बना दिया गया।
 
up_1  H x W: 0


गत 7 सितम्बर को हापुड़ जिले की पुलिस ने हथियार सप्लाई करने वाले गैंग का भंडाफोड़ किया। पुलिस का दावा है कि नावेद हथियार सप्लाई करने वाले गैंग का मुख्य सरगना है। बुलंदशहर का रहने वाला नावेद पठान कुछ वर्षों से राजनीति में सक्रिय था। नावेद पठान, रालोद का जिला उपाध्यक्ष था। उसके बाद वह भारतीय किसान यूनियन में शामिल हो गया। जब शिवपाल यादव ने समाजवादी पार्टी से अलग होने के बाद अपनी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बनाई तब नावेद शिवपाल यादव की पार्टी का जिलाध्यक्ष बना दिया गया।

काफी समय से हापुड़, मुरादाबाद, सहारनपुर एवं अलीगढ़ जनपद में अवैध हथियार का धंधा चल रहा था। हापुड़ जनपद की पुलिस ने गैंग के मुख्य सरगना नावेद, ग़ालिब खान, रिजवान और  रहीसुद्दीन सैफी को गिरफ्तार किया। इन अभियुक्तों के कब्जे से 11 पिस्टल, 21 तमंचे तथा अर्धनिर्मित अवैध हथियार और असलहा फैक्ट्री के उपकरण बरामद किये गए। हापुड़ के पुलिस अधीक्षक संजीव सुमन ने कहा, " पुलिस को सूचना मिली कि हथियारों के तस्कर सक्रिय हैं। मौके पर जब पुलिस पहुंची तब वहां पर मुठभेड़ के दौरान चार अभियुक्त गिरफ्तार किये गए।  दो अभियुक्त फरार हो गए। अभियुक्तों ने पूछताछ में बताया कि नावेद पठान गैंग का मुख्य सरगना है। डिमांड आने पर अवैध असलहे बना कर बेचते थे। हथियार तस्कर हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, गाजियाबाद और अलीगढ़ सहित कई जनपदों में हथियारों की सप्लाई कर रहे थे।”

 अभियुक्तों ने पुलिस को यह भी बताया कि हथियार बनाने की फैक्ट्री मेरठ जनपद में है। अभियुक्तों को लग रहा था कि पंचायत  चुनाव में असलहों की मांग बढ़ेगी इसलिए दो फैक्ट्री और लगाने की योजना थी।