माफिया अतीक की 100 करोड़ रुपए से अधिक की संपत्तियां जब्त

    दिनांक 15-सितंबर-2020   
Total Views |

माफिया अतीक अहमद  एवं पूर्व विधायक खालिद अजीम उर्फ अशरफ इन दिनों जेल में हैं।  इन दोनों भाइयों का जेल में होना तो कोई नई बात नहीं है, मगर योगी सरकार में इन माफिया भाइयों का आर्थिक साम्राज्य जिस तरह से ध्वस्त किया जा रहा है, वह निश्चित ही नई बात है। अभी तक के इतिहास में माफिया के अर्थतंत्र पर इस तरह की कार्रवाई पहली बार की जा रही है।
 
mafiya_1  H x W
माफिया अतीक अहमद  एवं पूर्व विधायक खालिद अजीम उर्फ अशरफ इन दिनों जेल में हैं।  इन दोनों भाइयों का जेल में होना तो कोई नई बात नहीं है, मगर योगी सरकार में इन माफिया भाइयों का आर्थिक साम्राज्य जिस तरह से ध्वस्त किया जा रहा है, वह निश्चित ही नई बात है। अभी तक के इतिहास में माफिया के अर्थतंत्र पर इस तरह की कार्रवाई पहली बार की जा रही है।

प्रयागराज जनपद के लूकरगंज, बेनीगंज, सिविल लाइन्स, महात्मा गांधी मार्ग स्थित माफिया की संपत्तियों को जब्त कर लिया गया। माफिया के कार्यालय एवं घर को भी जब्त कर लिया गया। अतीक अहमद के करीबियों की संपत्तियों को भी जब्त किया जा रहा है। यह सभी संपत्तियां, अपराध जगत के धन से आर्जित की गई थीं।

अतीक अहमद एवं उसके करीबियों की 100 करोड़ रुपए की संपत्तियों को जब्त किया जा चुका है। अन्य संपत्तियों को भी ढूंढकर कार्रवाई करने की प्रक्रिया चल रही है। अतीक अहमद गैंग की अधिकतर संपत्तियां थाना खुल्दाबाद, थाना करैली, थाना कोतवाली, थाना शाहगंज एवं थाना सिविल लाइन्स क्षेत्र में है।

मोहम्मद कैश को जेल भेजा गया। उसका शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने की प्रक्रिया चल रही है। अतीक गैंग के 39 सहयोगियों की हिस्ट्रीशीट खोल कर निगरानी की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि अतीक अहमद के करीबी हमजा उस्मान की संपत्तियों पर भी बुलडोजर चला कर ध्वस्त कर दिया गया और उस पर प्रयागराज प्रशासन ने कब्जा प्राप्त कर लिया। प्रयागराज जनपद के नवाब युसूफ रोड पर नजूल भूमि का एक भूखंड था, जिस पर अतीक अहमद के रिश्तेदार इमरान ने अवैध निर्माण करा लिया था। इस नजूल भूमि पर कारखाना चल रहा था।  इस अवैध निर्माण को भी ध्वस्त कर प्रशासन ने कब्जा प्राप्त कर लिया।

बता दें कि अतीक अहमद के खिलाफ कुल 38 मुकदमें न्यायालय में विचाराधीन हैं। अतीक अहमद एवं उनके परिजनों के 12 शस्त्र लाइसेंस को निरस्त किया गया है। अतीक अहमद का बड़ा बेटा अब्बास सीबीआइ के एक मुकदमें में वांछित है। अब्बास ने लखनऊ के पते पर 7 शस्त्र लाइसेंस स्वीकृत कराए थे। इसके बाद इसे दिल्ली के पते पर स्थानांतरित कराया था। इस सम्बन्ध में अभियोग पंजीकृत करके विवेचना की जा रही है। ऐसी 16 फर्म चिन्हित की गईं हैं जो बाहुबली की दबंगई के बल पर संचालित की जा रही थीं। 1 जिप्सी एवं 1 लैंड क्रूजर कार जब्त की गई। बैंक ऑफ बड़ौदा, इलाहाबाद बैंक एवं स्टेट बैंक में 6 खाते सीज किए गए।

पूर्व विधायक मोहम्मद अशरफ के रिश्तेदार मोहम्मद कैश के विरुद्ध शस्त्र अधिनियम का अभियोग पंजीकृत किया गया एवं उसकी राइफल एवं पिस्टल बरामद की गई। मोहम्मद कैश को जेल भेजा गया। उसका शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने की प्रक्रिया चल रही है। अतीक गैंग के 39 सहयोगियों की हिस्ट्रीशीट खोल कर निगरानी की जा रही है।