ढांचा विध्वंस निर्णय :राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने किया न्यायालय के निर्णय का स्वागत

    दिनांक 30-सितंबर-2020
Total Views |
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सभी आरोपियों को ससम्मान बरी किए जाने पर न्यायालय के निर्णय का स्वागत किया है

babri _1  H x W

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री भैयाजी जोशी ने कहा कि सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा विवादास्पद ढांचे के विध्वंस मामले में आरोपित सभी दोषियों को ससम्मान बरी करने के निर्णय का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ स्वागत करता है।

अयोध्या में विवादित ढांचे को गिराए जाने से संबंधित मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, डॉ. मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, साध्वी ऋतंभरा, चम्पत राय, महंत नृत्यगोपाल दास, कल्याण सिंह, सहित समस्त 32 आरोपियों को बरी कर दिया है। निर्णय सुनाते हुए विशेष अदालत के न्यायाधीश एसके यादव ने कहा कि ढांचे को गिराए जाने की घटना पूर्व नियोजित या साजिश नहीं थी, वह आकस्मिक घटना थी। आरोपियों के खिलाफ पुख्ता साक्ष्य नहीं हैं।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मामले में आरोपित सभी दोषियों को ससम्मान बरी किए जाने पर न्यायालय के निर्णय का स्वागत किया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री भैयाजी जोशी ने कहा कि सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा विवादास्पद ढांचे के विध्वंस मामले में आरोपित सभी दोषियों को ससम्मान बरी करने के निर्णय का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ स्वागत करता है।
इस निर्णय के उपरांत समाज के सभी वर्गों को परस्पर विश्वास और सौहार्द के साथ एकत्र होकर देश के सामने आने वाली चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना करते हुए देश को प्रगति की दिशा में ले जाने के कार्य में जुट जाना चाहिए।
इसी तरह पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने एक वीडियो जारी कर निर्णय का स्वागत करते हुए प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा किस्पेशल कोर्ट का जो निर्णय हुआ, वह अत्यंत महत्वपूर्ण है। आज का दिन हम सभी के लिए खुशी का दिन है।

तो वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि – सत्यमेव जयते! सीबीआई की विशेष अदालत के निर्णय का स्वागत है। तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा राजनीतिक पूर्वाग्रह से ग्रसित हो पूज्य संतों, भाजपा नेताओं, विहिप पदाधिकारियों, समाजसेवियों को झूठे मुकदमों में फंसाकर बदनाम किया गया। इस षड्यंत्र के लिए इन्हें जनता से माफी मांगनी चाहिए।