" जीवन का पहला वेतन रामकाज को समर्पित कर मिल रहा आत्मिक सुख"

    दिनांक 15-जनवरी-2021   
Total Views |
भारतीय जनता पार्टी के नवनिर्वाचित विधान परिषद सदस्य अवनीश कुमार सिंह ने लखनऊ में जनप्रतिनिधि के नाते मिलने वाले अपने पहले वेतन को निधि समपर्ण अभियान के निमित्त अर्पित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि मेरे जीवन का यह पहला वेतन है, जिसे अपने आराध्य श्रीराम के मन्दिर के लिए अर्पित करके जो खुशी, शांति मिल रही है, उसे शब्दों में नहीं व्यक्त कर सकता.

im_1  H x W: 0
 
अयोध्या में भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर के पुनर्निर्माण हेतु देश भर में निधि समर्पण अभियान का श्रीगणेश हुआ. देश भर में असंख्य रामभक्तों ने गाँव गाँव गली गली व घर घर जाकर इस अभियान हेतु लाखों लोगों से उनकी समर्पण निधि प्राप्त कर उनको इस पुनीत कार्य से जोड़ा।
इसी कड़ी में भारतीय जनता पार्टी के नवनिर्वाचित विधान परिषद सदस्य अवनीश कुमार सिंह ने भी लखनऊ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विभाग सह कार्यवाह श्री ब्रजेश जी को जनप्रतिनिधि के नाते मिलने वाले अपने पहले वेतन को निधि समपर्ण अभियान के निमित्त अर्पित किया. इस दौरान उन्होंने कहा," राम काज में गिलहरी की भांति सहयोग करके आत्मिक सुख की अनुभूति कर रहा हूँ. यकीनन मेरे जीवन का यह पहला वेतन है, जिसे अपने आराध्य श्रीराम के मन्दिर के लिए अर्पित करके जो खुशी, शांति मिल रही है, उसे शब्दों में नहीं व्यक्त कर सकता.
निश्चित रूप से अयोध्या में बनने जा रहे भव्य मंदिर के लिए कितनी लड़ाइयां लड़ी गयीं, कितने ही लोगों ने बलिदान दिया, पर अंततः देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और उत्तर प्रदेश के जनप्रिय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के अथक प्रयासों से आज यह शुभ दिन आया है, जब अयोध्या में जन जन के प्रिय रामलला का मंदिर बन रहा है.

im_1  H x W: 0
श्री सिंह ने कहा कि इसमें रत्तीभर भी सन्देह नहीं है कि हम सब इतिहास के अनमोल पल का हिस्सा बन रहे हैं.करोड़ों राम भक्तों की अभिलाषा, मनोरथ और इच्छाएं पूरी हो रही हैं. जहां राम लला विराजमान हैं, वहां दिव्य-भव्य मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है. इसलिए मेरा सभी से आवाहन है कि हम सब तन, मन, धन से इस निधि समर्पण अभियान में हिस्सा लें. ताकि हमारे भगवान का,आराध्य का भव्य- दिव्य मंदिर का निर्माण हो सके. यकीनन मन्दिर का निर्माण भारत का निर्माण है. मन्दिर का निर्माण लोकजीवन का निर्माण है.
उन्होंने कहा कि अयोध्या में 5 अगस्त को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अपने उद्बोधन में कहा था कि राम मंदिर के निर्माण की प्रक्रिया राष्ट्र को जोड़ने का उपक्रम है. यह महोत्सव है-विश्वास को विद्यमान से जोड़ने का, नर को नारायण से जोड़ने का. लोक को आस्था से जोड़ने का, वर्तमान को अतीत से जोड़ने का. यह ऐतिहासिक पल युगों-युगों तक, दिग दिगन्त तक भारत की कीर्ति पताका फहराता रहेगा.
श्री अवनीश सिंह ने कहा कि निश्चित ही इस ऐतिहासिक पल का हिस्सा बनकर आनंदित हूँ. हम सब जल्द ही अयोध्या में भव्य मंदिर को बना हुआ देखेंगे.