राजपथ के बाद अब पूरे प्रदेश के लोग देख सकेंगे श्रीराम की झांकी

    दिनांक 29-जनवरी-2021   
Total Views |
गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली के राजपथ पर प्रदर्शित श्रीराम मंदिर के प्रतिरूप की झांकी को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है. अब झांकी के इस प्रतिरूप को प्रदेश में अन्य स्थानों पर दिखाया जाएगा. जहां-जहां से यह झांकी गुजरेगी वहां पर पुष्पवर्षा की जाएगी.

10_1  H x W: 0

 गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली के राजपथ पर प्रदर्शित श्रीराम मंदिर के प्रतिरूप की झांकी को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है. अब झांकी के इस प्रतिरूप को प्रदेश में अन्य स्थानों पर दिखाया जाएगा. जहां-जहां से यह झांकी गुजरेगी वहां पर पुष्पवर्षा की जाएगी. राजपथ की परेड में उत्तर प्रदेश की ओर से राम मंदिर मॉडल की झांकी के जरिए लोगों ने अयोध्या में बन रहे राममंदिर की भव्यता का दर्शन किया. देश-दुनिया के करोड़ों लोगों ने इंटरनेट के माध्यम से भगवान राम की झांकी का दर्शन किया.

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव, सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि झांकी में यहां की बेहद संपन्न विरासत और संस्कृति की झलक दिखाई गई है. इसमें अयोध्या में बनने वाले श्रीराम मंदिर मॉडल के अलावा रामायण के प्रमुख दृष्य और रामायण की रचना करते हुए वाल्मीकि जी भी आकर्षण के केंद्र रहे. शबरी के जूठे बेर खाते हुए प्रभु श्रीराम के साथ अन्य दृश्य अत्यंत प्रभावी रहे.  संगीत के जरिए सामाजिक समरसता का संदेश देने का प्रयास किया गया है. झांकी को पहला स्थान मिलना हम सबके लिए हर्ष और गौरव की बात है.

उत्तर प्रदेश के सूचना निदेशक शिशिर कुमार ने ट्वीट करके झांकी की प्रस्तुति करने वाली टीम को बधाई दी. इस बार उत्तर प्रदेश की झांकी में अयोध्या में बन रहे भगवान श्री राम के भव्य मंदिर सहित वहां की संस्कृति, परंपरा, कला और विभिन्न  देशों से अयोध्या व प्रभु राम के संबंधों का चित्रण किया गया है. अन्य भित्ति चित्रों में भगवान राम द्वारा निषादराज को गले लगाते हुए, अहिल्या का  उद्धार, हनुमान द्वारा संजीवनी बूटी लाया जाना, जटायु-राम संवाद, लंका नरेश की अशोक वाटिका और अन्य दृश्यों को भी झांकी में जीवंत किया गया है.