मदरसे में भ्रष्टाचार, आधा दर्जन के विरुद्ध एफआईआर

    दिनांक 29-जनवरी-2021   
Total Views |
उत्तर प्रदेश में बलरामपुर जनपद के मदरसे में भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है. नियमों का उल्लंघन करके शिक्षा माफिया किस्म के लोगों ने मदरसे पर कब्जा कर लिया. जिलाधिकारी बलरामपुर ने मदरसे में भ्रष्टाचार का मामला उजागर होने पर मदरसा के प्रधानाचार्य समेत 6 लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई है.
8_1  H x W: 0 x

उत्तर प्रदेश में बलरामपुर जनपद के मदरसे में भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है. नियमों का उल्लंघन करके शिक्षा माफिया किस्म के लोगों ने मदरसे पर कब्जा कर लिया. जिलाधिकारी बलरामपुर ने मदरसे में भ्रष्टाचार का मामला उजागर होने पर मदरसा के प्रधानाचार्य समेत 6 लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई है.

बलरामपुर जनपद में अंजुमन नाशिरुल उलूम नामक संस्था के द्वारा मदरसा फजले रहमानिया संचालित किया जा रहा है. इस संस्था का अध्यक्ष अहमदुल कादरी है. अहमदुल कादरी खुद सरकारी कर्मचारी है. आरोप है कि इसने फर्जीवाड़ा करके शब्बीर हसन को संस्था के प्रबंधक के पद से हटा दिया और खुद संस्था का प्रबंधक बन गया. अहमदुल कादरी ने संस्था के कागजात में भी जालसाजी की.

प्रबन्धक शब्बीर हसन ने डिप्टी रजिस्ट्रार चिट्स एवं फण्ड को  इस पूरे प्रकरण से अवगत कराते हुये आरोप लगाया कि अहमदुल कादरी षड्यंत्र करके स्वयं प्रबंधक बन गया है. शब्बीर हसन की तहरीर पर अहमदुल कादरी समेत 6 लोगों के खिलाफ जालसाजी का केस दर्ज किया गया. मदरसा सेवा नियमावली के अनुसार ‘आफिस आफ प्राफिट’ ( लाभ के पद) पर रहते हुए कोई भी व्यक्ति संस्था की कार्यकारिणी का सदस्य नहीं हो सकता. अहमदुल कादरी ने तथ्यों को छिपाया. उसने खुद को कृषक होना दर्शाकर संस्था का सदस्य बन गया.