सतही बयान से अखिलेश यादव बने मजाक के पात्र, अब हो रही तीखी प्रतिक्रिया

    दिनांक 04-जनवरी-2021   
Total Views |

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बयान दिया कि “कोरोना वैक्सीन, भाजपा की वैक्सीन है और उसको वे नहीं लगवाएंगे. जब उनकी सरकार आयेगी तब सभी को वैक्सीन मुफ्त में लगेगी.” यह बयान देकर अखिलेश यादव ने निश्चित ही भारत के वैज्ञानिकों का अपमान किया है.
AK_1  H x W: 0

राजनीति में विरोध के लिए कितना सतह पर उतरा जा सकता है, इसका ताजा उदाहरण कोरोना वैक्सीन पर शुरू हुई राजनीति है. भारत पूरे विश्व में पहला ऐसा देश है, जिसने एक साथ दो वैक्सीन को स्वीकृति दी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत को वैक्सीन में सफलता हासिल करने पर बधाई दी. मगर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बयान दिया कि “कोरोना वैक्सीन, भाजपा की वैक्सीन है और उसको वे नहीं लगवाएंगे. जब उनकी सरकार आयेगी तब सभी को वैक्सीन मुफ्त में लगेगी.” यह बयान देकर अखिलेश यादव ने निश्चित ही भारत के वैज्ञानिकों का अपमान किया है. युद्ध स्तर पर कोरोना की वैक्सीन खोजने वाले इस देश के वैज्ञानिक और डाक्टर बधाई के पात्र हैं. दलगत राजनीति में फंसकर अखिलेश यादव उन लोगों के प्रति अगर सद्भावना व्यक्त नहीं कर पा रहे थे तो चुप्पी साध सकते थे. मगर उन्होंने भ्रम फैलाने वाला अपमानजनक बयान दिया. जब उनके इस बयान की तीखी प्रतिक्रिया हुई तब अखिलेश यादव ने अपने बयान को कुछ संभालने का प्रयास किया.

 
अखिलेश यादव के भ्रामक बयान के बाद उनका पुराना वीडियो भी सामने आया, जिसमें वे सवाल उठा रहे थे, "भारत सरकार क्या कर रही है ? यूरोप के देशों में वैक्सीन आ गई है. वहां के नागरिकों को वैक्सीन लगने जा रही है. भारत की सरकार लोगों को वैक्सीन देना ही नहीं चाहती है, यह केवल प्रचार चाहती है." उस समय जब अखिलेश यादव को लगा था कि कोरोना वैक्सीन अभी दूर की कौड़ी है, तब उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया था. जब भारत में एक साथ दो कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई तब उन्होंने उसे भाजपा की कोरोना वैक्सीन बता कर उसका विरोध किया. अखिलेश यादव को यह याद भी नहीं रहा कि कुछ दिन पहले ही वह कोरोना वैक्सीन की मांग कर रहे थे.

अब जनता में यह बात साफ़ तौर पर उजागर हो गई है कि केवल विरोध करने के लिए सरकार के विरोध में बयान जारी किये जाते हैं. अखिलेश यादव के पुराने बयान का वीडियो सामने आने के बाद उनका काफी मजाक उड़ाया जा रहा है. सोशल मीडिया पर पुराना वीडियो पोस्ट कर के लोग सवाल पूछ रहे हैं कि जो अखिलेश यादव कोरोना वैक्सीन के लिए केंद्र सरकार को कठघरे में खड़ा कर रहे थे, वही अखिलेश यादव कोरोना वैक्सीन का विरोध कैसे करने लगे !

 
समाजवादी पार्टी के विधान परिषद सदस्य आशुतोष सिन्हा ने तो अखिलेश यादव को भी पीछे छोड़ दिया. उन्होंने कहा कि “टीका लगवाने से व्यक्ति नपुंसक हो सकता है.” ऐसे ही भ्रम फैलाने वाले नेताओं और कुछ जनता की अज्ञानता के कारण इस देश में किसी भी बीमारी का टीकाकरण एक टेढ़ी खीर रहा है. पोलियो के टीकाकरण के लिए इस देश में आज भी स्वास्थ्य विभाग की टीम संघर्ष कर रही है. एक जमाने से मुसलमान, पोलियो ड्राप पिलाने वाली टीम पर इसलिए हमला करते आ रहे हैं क्योंकि उनको यह भ्रम हो गया कि वह प्रजनन क्षमता रोकने की दवा है! पाकिस्तान में तो कुछ जगहों पर पोलियो ड्राप को इस्लाम  के खिलाफ बताया दिया गया था. पोलियो बीमारी के बारे में स्वास्थ्य विभाग का स्लोगन है- "एक भी बच्चा छूटा तो समझो सुरक्षा चक्र टूटा." इसकी वजह यह है कि अगर एक भी बच्चा पोलियो ग्रस्त है तो पोलियो का  वायरस वातावरण में बना रहेगा. यह बीमारी देश से समाप्त तभी होगी जब सभी बच्चों को पोलियो ड्राप पिला दी जायेगी, मगर मुस्लिम इलाकों में एक अरसे से यह अफवाह जड़ जमाए बैठी है कि सरकार पोलियो ड्राप पिलाकर आने वाली पीढ़ी की प्रजनन क्षमता को समाप्त करना चाहती है. इसलिये चाहें जो हो जाए बच्चों को पोलियो ड्राप नहीं पिलाना है. हाल के वर्षों में जब  उत्तर प्रदेश में सपा की सरकार थी, उस समय भी मुस्लिम इलाकों में पोलियो ड्राप पिलाने वाली टीम के ऊपर जानलेवा हमले किये गए थे. कई बार पोलियो ड्राप पिलाने के  लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को पुलिस की मदद लेनी पड़ी थी. अब इस बार अखिलेश यादव कोरोना वैक्सीन को लेकर भ्रम फैलाते नजर आ रहे हैं.



अखिलेश यादव के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया
प्रदेश के उप मुख्यमंत्री और भाजपा नेता केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि अखिलेश यादव को टीके पर भरोसा नहीं है और यह देश के डॉक्टरों और वैज्ञानिकों का अपमान है. अखिलेश यादव को टीके पर भरोसा नहीं है और उत्तर प्रदेश वासियों को उन पर भरोसा नहीं है. उनका टीके पर सवाल उठाना, हमारे देश के चिकित्सकों एवं वैज्ञानिकों का अपमान है जिसके लिए उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए.'' तो वहीं भाजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह ने अखिलेश यादव को टैग करते हुए ट्वीट किया, “भ्रष्‍टाचार और गुंडाराज को समाप्‍त करने के लिए भाजपा की वैक्‍सीन कारगर साबित हुई है. आप कौन सी वैक्‍सीन की बात कर रहे हैं अखिलेश यादव जी.”