उत्तर प्रदेश में पटरी पर लौटी जिन्दगी, सभी चिकित्सा सेवाएं बहाल

    दिनांक 15-फ़रवरी-2021
Total Views |
उत्‍तर प्रदेश में कोरोना के आंकड़ों में तेजी से गिरावट दर्ज हुई है. वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रणनीति ने देश के कई राज्यों को पीछे छोड़ दिया है

up health service _1 
उत्तर प्रदेश में कोविड पूर्व समस्त चिकित्सा सेवाओं को पुनः प्रारंभ करने के आदेश सभी मेडिकल कालेजों को जारी किए गए हैं जिससे सामान्य नागरिकों को सेवाएं सुलभ हो सकें.
लॉकडाउन से लेकर अनलॉक प्रक्रिया तक सेनिटाइजेशन, कोविड प्रोटोकॉल, सामूहिक जांच, टीकाकरण के जरिए कोरोना को प्रदेश में मात दी जा रही है. प्रदेश में कोरोना महामारी के दौरान कोरोना पर निगरानी रख रही टीमें उत्तर प्रदेश की 85 प्रतिशत आबादी तक पहुंच चुकी हैं जो अन्य राज्यों के मुकाबले सबसे ज्यादा है।
प्रदेश में एक ओर संक्रमित मरीजों की संख्‍या लगातार कम हो रही है तो वहीं प्रदेश में मौत का आंकड़ा शून्‍य पर भी पहुंच रहा है. सर्वाधिक कोरोना जांच के बाद अब टीकाकरण कराने में भी यूपी शीर्ष पर है. उत्‍तर प्रदेश में कोरोना टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू किया जा चुका हैं. फ्रंट लाइन वर्कर्स जैसे पुलिसकर्मी, सेना के जवानों, होमगार्ड, सिविल डिफेंस, सफाई कर्मचारी, रेवन्‍यू डिपार्टमेंट के कर्मचारियों का टीकाकरण प्रदेश में तेजी से किया जा रहा है.
प्रदेश में अब तक 2 करोड़ 92 लाख से अधिक सैंपलों की जांच की जा चुकी है. इसके साथ ही 24 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में निगरानी रख रही टीम 18 करोड़ आबादी तक पहुंच चुकी हैं. प्रदेश में कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या 98 प्रतिशत से अधिक है जो दूसरे राज्‍यों की अपेक्षा कई गुना ज्‍यादा है. सर्वाधिक आबादी वाले प्रदेश में अब कोरोना के एक्टिव केस के आंकड़े महज तीन हजार रह गए हैं. प्रदेश में अब तक 5.89 लाख लोग संक्रमण मुक्‍त हो चुके हैं. कोरोना के आंकड़ों में लगातार गिरावट आने के बाद भी प्रदेश में अब भी कोरोना वार्ड स्‍थापित हैं. प्रदेश में कोरोना के मामलों में दर्ज की गई गिरावट का नतीजा है कि अब प्रदेश में कोविड पूर्व समस्त चिकित्सा सेवाओं को पुनः शुरू करने के आदेश दिए गए हैं.