हिन्दू समाज के संघर्ष का परिणाम है कि अयोध्या में भव्य मंदिर का हो रहा निर्माण

    दिनांक 19-फ़रवरी-2021
Total Views |
गत दिनों श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के ऐतिहासिक व सांस्कृतिक विषय पर केन्द्रित पाञ्चजन्य व ऑर्गेनाइजर के विशेषांक का विमोचन वनवासी विकास समिति, रोहिणीपुरम, रायपुर के सभागार में संपन्न हुआ।
DDD_1  H x W: 0 
विशेषांक का लोकार्पण करते बाएं से सर्वश्री प्रेमशंकर जी सिदार, बिसराराम यादव, श्रीगोपाल व्यास एवं कौशलेंद्र प्रताप सिंह 
गत दिनों श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के ऐतिहासिक व सांस्कृतिक विषय पर केन्द्रित पाञ्चजन्य व ऑर्गेनाइजर के विशेषांक का विमोचन वनवासी विकास समिति, रोहिणीपुरम, रायपुर के सभागार में संपन्न हुआ। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व क्षेत्र प्रचारक श्री श्रीगोपाल व्यास, पूर्व प्रान्त संघचालक श्री बिसराराम यादव, प्रान्त प्रचारक श्री प्रेमशंकर सिदार व सामाजिक सद्भाव प्रमुख श्री कौशलेंद्र प्रताप सिंह ने विशेषांकों का विमोचन किया।
विमोचन अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित श्री श्रीगोपाल व्यास ने संबोधित करते हुए कहा कि स्व. अशोक सिंहल जी होते तो कितना आनंदित होते, क्योंकि वे श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन का बहुत ही कुशलता से नेतृत्व कर रहे थे। वह समय संघर्ष का रहा। पुरातात्विक, कानूनी व राजनीतिक लड़ाई निरंतर लड़ी गईं और अंत में एक निर्णायक स्थिति में पहुंचकर आज भगवान श्रीराम जी का भव्य मंदिर बनने का कार्य प्रारंभ हुआ है।
कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित श्री कौशलेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि उनका जन्मस्थान अयोध्या के निकट ही एक गांव में है, इसलिए भी अयोध्या से काफी जीवंत लगाव है। श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के प्रारंभ से जुड़ने का अवसर मिला। विश्व हिन्दू परिषद के प्रदेश महामंत्री रहकर अनेक जिम्मेदारियों का निर्वहन किया। कारसेवा के दौरान छत्तीसगढ़ प्रान्त के कारसेवकों के साथ वहां रहना हुआ। उस दौरान कारसेवकों का जो उत्साह देखा वह आज भी प्रेरणा देता है। इस दौरान उन्होंने आंदोलन से जुड़े कई प्रेरक प्रसंग भी उपस्थित जनों के साथ साझा किए।
समारोह में अतिथि के रूप में उपस्थित पूर्व प्रान्त संघचालक श्री बिसराराम यादव ने कहा कि भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त होना, यह हिन्दू समाज के संघर्ष का परिणाम है। इसलिए, आज श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए सम्पूर्ण हिन्दू समाज सहयोग कर रहा है। जिसमें जनता अपने दल और विचारों से ऊपर उठकर अपना योगदान दे रही है। आंदोलन के दौरान आए अनुभवों और कई प्रेरक प्रसंगों को उन्होंने लोगों के समक्ष साझा किया। इस अवसर पर अखिल भारतीय शारीरिक शिक्षण प्रमुख श्री सुनील कुलकर्णी एवं रायपुर महानगर के प्रबुद्धजन उपस्थित रहे।