इस समर्पण का कोई सानी नहीं

    दिनांक 26-फ़रवरी-2021
Total Views |


gg_1  H x W: 0
निधि समर्पण टोली को चेक भेंट करतीं श्रीमती माया राजपूत

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कोलुआ गांव में रहने वाली माया राजपूत और उनके पति मानसिंह राजपूत ने श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के लिए 1,00,000 रु. का समर्पण किया। एक छोटी-सी किराना दुकान चलाने वाली माया ने  यह राशि अपने सोने के आभूषणों को गिरवी रखकर जुटाई है। 14 फरवरी को उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की निधि समर्पण टोली के रामस्वरूप राजपूत, रणधीर पटेल आदि कार्यकर्ताओं को यह राशि समर्पित करने के साथ एक पुस्तक भी भेंट की। इसमें उन्होंने और उनकी तीन बेटियों ने 1,00,000 बार ‘राम’ नाम लिखा है। माया का कहना है कि बरसों से सुनते आ रहे हैं राम जी का मंदिर बनेगा, अब वह घड़ी आई है, तो लग रहा है कि सारे सपने सच हो रहे हैं।

मेजर खातिंग स्मारक का उद्घाटन
गत 14 फरवरी को तवांग (अरुणाचल प्रदेश) में मेजर रालेंगनाओ बॉब खातिंग के स्मारक का उद्घाटन किया गया। चीफ आॅफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू, मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा, केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू और अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर (सेनि) बी.डी. मिश्र की उपस्थिति में मेजर खातिंग के स्मारक का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर मेजर खातिंग के बेटे जॉन (पूर्व आईआरएस अधिकारी) और अन्य पारिवारिक सदस्य उपस्थित रहे। उल्लेखनीय है कि मेजर खातिंग के अदम्य साहस और अद्वितीय पराक्रम के कारण ही तवांग आज भारत का भाग है। खातिंग गुवाहाटी के बिशप कॉटन कॉलेज से स्नातक की उपाधि पाने वाले मणिपुर के पहले व्यक्ति थे। इसके बाद उन्होंने कुछ दिन तक अध्यापन का कार्य किया। 1939 में वे सेना में शामिल हुए थे।