कांग्रेस का ‘हाथ’ मुख्तार के साथ

    दिनांक 08-फ़रवरी-2021   
Total Views |

अब यह तय हो चुका है कि कांग्रेस का ‘हाथ’ माफिया मुख्तार अंसारी के साथ है. उत्तर प्रदेश सरकार मुख्तार अंसारी को पंजाब से लाना चाहती है ताकि उसके विरुद्ध चल रहे मुकदमों में त्वरित ढंग से सुनवाई हो सके मगर पंजाब सरकार उसे पंजाब में ही बनाये रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट में मुख्तार का बचाव कर रही है.

muker_1  H x W:


अब यह तय हो चुका है कि कांग्रेस का ‘हाथ’ माफिया मुख्तार अंसारी के साथ है. उत्तर प्रदेश सरकार मुख्तार अंसारी को पंजाब से लाना चाहती है ताकि उसके विरुद्ध चल रहे मुकदमों में त्वरित ढंग से सुनवाई हो सके मगर पंजाब सरकार उसे पंजाब में ही बनाये रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट में मुख्तार का बचाव कर रही है. इस बीच पूर्व विधायक कृष्णानन्द राय की पत्नी अलका राय दो बार प्रियंका गांधी को पत्र लिख चुकी हैं मगर प्रियंका गांधी ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

अलका राय ने कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को एक फिर एक बार  पत्र लिखा. उन्होंने पत्र में लिखा कि पंजाब सरकार मुख्तार अंसारी को बचा रही है और राजस्थान सरकार, मुख्तार के पुत्र को राज्य अतिथि बना रही है. प्रियंका गांधी से सवाल पूछते हुए उन्होंने लिखा है कि “ महिला होते हुए मुझे ये उम्मीद थी कि आप मेरा दर्द समझेंगी. आप आए दिन अपराध और अपराधियों के खिलाफ तमाम दावें करती है, लेकिन इंसाफ मांग रही मेरे जैसी अनेकों पीड़िताओं के एक भी पत्र का जवाब देना भी आपने उचित नहीं समझा और ना ही हमें इंसाफ दिलाने की कोशिश की.” कुछ दिन पहले राजस्थान सरकार के संरक्षण में मुख्तार के बेटे अब्बास की धूमधाम से शादी हुई थी.

उधर उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और सुक्ष्म,लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि “ देश के इतिहास में शायद ही कोई ऐसा उदाहरण मिले जिसमें किसी राजनीतिक दल की एक माफिया के प्रति इस कदर सहानुभूति उमड़ी हो कि उसके पैरोकारी में वह सुप्रीम कोर्ट तक पहुँच जाए. पूरा समाज जानता है कि मुख्तार क्या है? कितने लोग उसके जुल्म और ज्यादती के शिकार हुए हैं? मेरा कांग्रेस के साहबजादे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा से सवाल है कि इस सहानुभूति की वजह क्या है? उन लोगों के बारे में उनका क्या ख्याल है जिनका घर-परिवार मुख्तार के कारण उजड़ गया? मैं ही नहीं पूरा देश और समाज यह जानना चाहता है. मुख्तार की पैरवी करते हुए क्या कभी कांग्रेस ने इनके बारे में सोचा?  यकीनन नहीं सोचा होगा. कांग्रेस की पूरी राजनीति की बुनियाद ही नफा-नुकसान पर आधारित है. मुख्तार के बहाने उनकी नजर वर्ग विशेष के वोट पर है, पर उनके ये मंसूबे पूरे होने से रहे. योगी सरकार अलग तरह की सरकार है. वह अपराधियों और माफियाओं को सत्ता के संरक्षण के रूप में खाद-पानी नहीं देती. उनका मान मर्दन करती है और करती रहेगी.