बांग्लादेश: अल्पसंख्यक हिंदुओं के घरों और मंदिरों पर हमला करने वालों पर दो दिन बाद भी कार्रवाई नहीं, मामला भी नहीं किया गया दर्ज

    दिनांक 19-मार्च-2021   
Total Views |
बांग्लादेश के सुनामगंज के शल्ला स्थित नौगांव में हिंदुओं के 450 से अधिक घरों और पांच मंदिरों में तोड़फोड़ करने वाले कट्टरपंथी संगठन "हेमजत-ए-इस्लाम" के खिलाफ अब तकअ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। जबकि एक हिन्दू लड़के को गिरफ्तार करने में पुलिस ने तनिक भी देरी नहीं लगाई

bangla_1  H x W

बांग्लादेश के सुनामगंज के शल्ला स्थित नौगांव में हिंदुओं के 450 से अधिक घरों और पांच मंदिरों में तोड़फोड़ करने वाले कट्टरपंथी संगठन "हेमजत-ए-इस्लाम"  के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इस मामले में कुछ ऐसे लोग हिरासत में लिए गए हैं, जिन्हें हमलावरों ने हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया। जबकि एक हिन्दू लड़के को गिरफ्तार करने में पुलिस ने तनिक भी देरी नहीं लगाई। इस पर बांग्लादेश की निर्वासित जीवन जीने वाली प्रसिद्ध लेखिका तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश की हसीना सरकार पर कड़ा प्रहार किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि शेख हसीना अपने पिता बंगबंधु की पूरे शानशौकत से सालगिरह मनाने की तैयारी कर रहीं, दूसरी तरफ बड़ी संख्या में हिंदुओं के घरों और मंदिरों को निशाना बनाया गया। आरोपियों के खिलाफ 50 घण्टे बाद भी कार्रवाई नहीं किए जाने पर उन्होंने बांग्लादेश सरकार की जमकर आलोचना की।

bangla_1  H x W

गौरतलब है कि प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी 25 मार्च को दो दिवसीय बांग्लादेश देश दौरे पर जा रहे हैं, जिसका कट्टरपंथी संगठन हेमजत-ए-इस्लाम विरोध कर रहा है। इस क्रम में जगह, जगह भाषणबाज़ी का कार्यक्रम चलाया जा रहा। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, हिन्दू और हिन्दू धर्म के बारे में अपशब्द कहे जा रहे हैं। दो दिन पहले एक हिन्दू युवक ने अपने फेसबुक पर संगठन के एक बड़े नेता के भाषण की आलोचना की। उसके बाद योजनाबद्ध तरीके से कट्टरपंथी संगठन के सैकड़ों जिहादी नौगांव में उक्त हिन्दू युवक सहित उसके आस, पास रहने वालों पर टूट पड़े। घरों में तोड़फोड़, आगजनी करने के साथ लूटपाट की गई। इस दौरान जिसने भी विरोध किया उनकी पिटाई कर दी गई। पुलिस मामले में सख्त कदम उठाने की जगह मामले की लीपापोती में लगी है। अभी तक कटृटरवादी संगठन के किसी बड़े नेता पर हाथ भी नहीं डाला गया है।

bangla_1  H x W
 
बांग्लादेश की एक न्यूज वेबसाइट द डेली स्टार के मुताबिक, संगठन के समर्थकों ने सुनामगंज के शल्ला स्थित नौगांव में स्थानीय हिंदुओं के घरों पर सुनियोजित हमला किया गया था। आस-पास के गांवों के सौ से अधिक लोगों की भीड़ हथियारों के साथ एकत्र हुई और हमले को अंजाम दिया। हमले में नौगांव के हिंदू समुदाय के 50 से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचाया गया। ज्यादातर घर टीनशेड थे। इन घरों को जिहादियों ने तोड़ डाला। सुनामगंज के पुलिस उपायुक्त जहांगीर हुसैन ने इसे आंशिक नुकसान बताकर जिहादियों का बचाव किया। उन्होंने यह माना कि
इस संबंध में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई और न ही मामला दर्ज किया गया है।

bangla_1  H x W

वेबसाइट के अनुसार, यह हमला स्थानीय कटृटरवादी समर्थकों के एक समूह द्वारा किया गया। इसे अंजाम देने के लिए योजनाबद्ध तरीके अपनाए गए। एक हिन्दू युवक द्वारा सोशल मीडिया पर संगठन के सरगना मौलाना मामूनुल हक की आलोचना करने के अगले दिन किया गया। यह मामला सामने आते ही पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए हिन्दू युवक को तो गिरफ्तार कर लिया पर हमले के आरोपी छुट्टा घूम रहे हैं।